32 C
Gurgaon
Thursday, September 29, 2022
Home Blog

Panchayat Season 3 Release Date | Trailer | Storyline Cast, OTT Platform | Full Details

0
Panchayat Season 3 Release Date
Panchayat Season 3 Release Date, cast, trailer,

panchayat season 3 is an amazon original series based on panchayat season 1. Panchayat Season one is based on the life of Abhishek sir AKA Abhishek Tripathi (Jitendra Kumar), a computer engineer who works as a “Sachiv ji”(secretary) of a Phulera village’s panchayat. Due to a lack of better work opportunities, Abhishek accepts the position of Panchayat Secretary. Fans and critics praised the filmmakers of ‘Panchayat 2’. Fans have been anticipating the debut of the third season of ‘Panchayat’ since the show’s creators confirmed it. Panchayat’s fans are eager to learn more about the plot and release date. Let us know more about the third season of the series in this article.

Panchayat Season 3 Release Date And Time

Ever since the release of season 2 on May 18, 2022, the viewers are expecting a new season, Panchayat Season 3. Season 2 came back after two years (that is after 2020) which created curiosity among the viewers about the new episodes. But as usual, the second part is also liked by the viewers. Some say that the Panchayat series is the best in entertainment and also has a message for the people. The producers of Panchayat have beautifully visualized the experiences of a newly graduated engineer who is appointed in one of the villages of Uttar Pradesh. The way he handles his life and the other situations he comes across without knocking on his life’s door creates curiosity and a sense of comedy for the watchers.

Also Read:- Big 6 Cinematic Universe movies of Lokesh Kanagaraj

Panchayat Season 3 Release Date
Release Date                                                                Mid-April 2023
Release Time 12 AM
Streaming Platform Amazon Prime Video
Panchayat Season 3 Release Date And Time

Panchayat Season 3 Release Date And Time: In an interview with ‘Free Press Journal India,’ Jitendra Kumar stated frankly that ‘there is no pressure, although many things have obviously improved compared to the previous season, there is still a lot of work to be done.’ There are parallels. I believe the audience will enjoy Panchayat Season 2 due to the intriguing tale

The viewers are predicting that Panchayat Season 3 will be going to be entertaining as the other two seasons. The web series was produced by The Viral Fever, TVF Play by undertaking the concept of Chandan Kumar. The viewers will again watch the fantastic acting of Jitendra Kumar who was in the previous parts and have played the role of “Jitu Bhaiya” in the web series “Kota Factory”.

The audience is quite impressed with the intensity he shows in a particular role in a web series. We would like to notify the viewers that the release date of Panchayat season 3 is expected to be April 2023. Continue reading to know the star cast and OTT platform!

Highlights of Panchayat Season 3

  • Type of Web Series: Indian Hindi-language comedy-drama
  • Script By: Chandan Kumar
  • Directed By:  Deepak Kumar Mishra
  • Production Company: TVFPlay
  • Cast: Jitendra Kumar, Chandan Roy, Raghubir Yadav, Faisal Malik, Neena Gupta
  • Release Date: April 2023 – Early 2024
  • OTT Platform: Amazon Prime Video

Panchayat Season 3 Storyline

TVFPlay is one of the leading production companies which releases several entertaining, real-life-based web series on their platform. Comedy, inspiration, romance, and drama; you can watch anything you like on this platform. Currently, it is in the news that Panchayat’s third part will be coming soon, created by TVFPlay.

Panchayat Season 3 Full Cast 

CASTROLE
Jitendra Kumar / JituAbhishek Tripathi
Raghubir YadavBrij Bhushan Dubey
Neena GuptaManju Devi
SanvikaaRinki
Chandan RoyOffice Assistant Vikas
Faisal MalikPrahlad Pandey
Durgesh KumarBhushan
Sunita RajwarKranti Devi
Govind LobhaniWard Member
Satish RaySiddharth
Panchayat Season 3 Full Cast 

Panchayat Season 3 Cast: ‘Panchayat’ has established itself as one of the top Hindi comedy-drama web series. Panchayat Season 3 stars Jitendra Kumar, Raghubir Yadav, Neena Gupta, Chandan Roy, and Faisal Malik. This series was created for Amazon Prime Video by the production company ‘The Viral Fever’ (TVF). The ‘Second Season of ‘Panchayat’ was just launched and was highly accepted by the audience. Viewers are now anxiously anticipating the third season.

Panchayat Season 3 Full Story 

From then, the story begins at the end of the first season. The panchayat secretary of Phulera village, Abhishek Tripathi (Jitendra Kumar), is shown coming out of a water tank. Here, Vikas (Chandan Roy) and Deputy Pradhan Prahlad (Faisal Malik) are concerned that the Pradhanji will learn about Secretary ji and Rinki’s affair (Saanvika). The good news is that Abhishek Tripathi has become fond of the village’s land.

The secretary’s face is no longer as irritated as it once was. He now responds to everything with a smile. But that doesn’t mean they don’t wish to leave the village. His plan remains firm, and he has decided to leave the village as soon as the MBA exam is completed. The second season of Panchayat has seen two new entries. Rinki (Saanvika), Pradhan ji’s daughter, is the first, and Sunita Rajwar is the second.

Panchayat Season 3 News Update With Full Details

NUMBER OF EPISODES: 8

DIRECTOR: Deepak Kumar Mishra

OTT PLATFORM: Amazon Prime Video

Deepak Kumar Mishra, the director of ‘Panchayat,’ has not stated when the third season will premiere. He stated in an interview that he intends to make a third season, but he is not in a rush. Mishra stated that ‘Season 3’ will undoubtedly be released, but it will take time. We currently have two seasons of responsibility, and we will need to focus more on performance and script. It will take its time this way.

Director Deepak Kumar Mishra shares light on the lead characters Abhishek and Rinki (Jitendra Kumar and Saanvika) of ‘Panchayat’ in the third season of ‘Panchayat.’ They (Panchayat secretary Abhishek and Rinke) did not marry in the second season. He went on to say that this will progressively be observed happening in season three of the panchayat. He continued, “Everything, as I have stated, takes its time. Everything will move at a sluggish pace, just like in the village’s natural setting. Everything will come in stages.”

Also Read:-

Regarding the success of ‘Panchayat,’ he stated that it was due to the show’s simplicity. Because of its simplicity, the show has also been dubbed Panchayat. He stated that there are a lot of web shows featuring horrific violence on OTT these days. In this case, the simplicity of ‘Panchayat’ distinguishes it. People may identify with every character in ‘Panchayat.’ I can identify with these events.

On the topic of making the climax of Panchayat’s second season dramatic, he stated that the producers needed something at the end of the series that would keep people captivated. Several options were investigated for this. In the story, the MLA’s pride had arrived, Durgesh had harassed, and there was a schism between the secretary and the head, so something that would unite this group was required. ‘Panchayat’ premiered its first season in April 2020. The second season will be released on May 18, 2022. Both seasons include an average of eight 30-35-minute episodes.

Statements of Panchayat Season 3 Team Members

Jitendra Kumar 

Jitendra Kumar stated in an interview with “Free Press Journal India” that “there is no pressure, although many things have obviously improved compared to the last season, still a lot of work needs to be done.” There are parallels. Season 2’s intriguing story will likely appeal to the viewers as well, in my opinion.

Panchayat Season 3 Release Date

Jitendra Kumar continued, “During the first season, everybody was free, and everyone had free time to watch the series at home. We had a lot of support from the public, so perhaps this time we will do the same. The third season of Panchayat is something we are also anticipating.

Panchayat Season 3 Amazon Prime

The OTT Platforms have made it easier for viewers to watch their favorite web series or movies at anytime they want. It is almost impossible for everyone to go out to a cinema and watch a film. As far as Panchayat seasons are concerned, Amazon Prime Video is one of the best OTT Platforms on which viewers can watch the web series. From Panchayat season 1 to Panchayat season 3 releasing on amazon prime, and upcoming seasons, all will be shown here. The viewers can select the language they want and the type of websites from this OTT platform apart from Panchayat as per their liking.

You will be watching some new faces in the upcoming season. Rinki, Pradhan Jim’s daughter, and Sunita Rajwar; these actors will be playing a different but interesting role in the web series. The director himself said that the production team is in no hurry to release the third part. They will be working on the feedback received from the first two parts of Panchayat and will soon announce the confirmed release dates.

Panchayat Season 3 Download in Hindi

Guys, you can download the panchayat season 3 on the internet when it will release but we strongly recommend you to watch it on amazon prime video because piracy is illegal and a criminal offense. But you can also download amazon prime online and watch whenever you want to watch your favorite panchayat season 3 while the internet is not working too.

Building Panchayat | Behind The Scenes | Amazon Prime Video

In this article, we have discussed the cast, storyline, release date, and more details of Panchayat Season 3 See you soon.

Raju Srivastav Biography Hindi | Raju Srivastav की दाऊद इब्राहीम से दुश्मनी | मच्छर चालीसा

0

राजू श्रीवास्तव का जन्म 25 दिसम्बर 1963 को कानपूर उत्तर प्रदेश में हुआ था| वो एक मंध्यम परिवार से तालुक रखते थे उनके पिता का नाम रमेश चन्द्र श्रीवास्तव था जो एक कवी व व्यापारी थे| और माता जी का नाम सरस्वती श्रीवास्तव था वो एक घरेलु महिला थी| उनके एकबड़े भाई थे, जिनका नाम सीपी श्रीवास्तव है और एक छोटे भाई है जिनका नाम दीपू श्रीवास्तव है| राजू श्रीवास्तव भारत के प्रसिद्ध हास्य कलाकारों में एक थे| राजू को मिमिक्री करने का टैलेंट उन्हें अपने पिता रमेश श्रीवास्तव से मिला था। राजू के पिता गाँव के छोटे – छोटे कार्यक्रमों में लोगों की मिमिक्रीयां किया करते थे जिसे देख राजू बड़े हुए। राजू को लोग प्यार से गजोधर भैया कहते थे., उन्होंने बताया की गजोधर दरअसल उनके गाँव में नाइ था जिनसे वो अपने बाल कटवाते थे| अपने हास्य व्यक्तित्व के जरिए वे बड़ी आसानी से लोगों का दिल भी जीत लेते थे| आम आदमी और रोज़मर्रा की छोटी छोटी घटनाओं पे व्यंग सुनाने के लिए जाने जाते थे|

17 मई 1993 को शिखा श्रीवास्तव से उनकी शादी हुई| जिनसे उनके 2 बच्चे हुए| बेटा आयुष्मान श्रीवास्तव और बेटी अन्तरा श्रीवास्तव| राजू शुरू से ही फिल्मों में और टीवी में काम करना चाहते थे । वो बचपन में अलग-अलग फिल्म कलाकारों और प्रसिद्ध व्यक्तियों की मिमिक्री किया करते थे। इसलिए राजू श्रीवास्तव मुंबई में अपने करियर की शुरुआत करने के लिए निकल पड़े| लेकिन राजू श्रीवास्तव ने अपने करियर में सफलता पाने से पहले काफी संघर्ष किया था| राजू ने जब तक कोई बड़ा और अच्छा काम नहीं मिला तब तक मुंबई की गलियों में ऑटो रिक्शा भी चलाया था।

Raju Shrivastav Family

राजू श्रीवास्तव ने 1988 में आई फिल्म तेजाब से बॉलीवुड में डेब्यू किया | उसके बाद मैंने प्यार किया, बाज़ीगर, आमदनी अट्ठनी खर्चा रुपया, वाह तेरा क्या कहना जैसी कई फिल्मो में छोटे, बड़े, अहम रोल्स किए| उन्हें टीवी पर सबसे पहला ब्रेक मुकेश खन्ना के शक्तिमान टीवी धारावाहिक में मिला। राजू श्रीवास्तव ने अपने जीवन में कल्याण जी, आनंद जी, नितिन मुकेश आदि बड़े – बड़े कलाकारों के साथ काम किया। राजू ने न सिर्फ भारत बल्कि विदेशों में काम किया था।

राजू को असली पहचान दिलाई थी कॉमेडी शो ‘द ग्रेट इंडियन लाफ्टर चैलेंज’ ने. वो शो तो नही जीत पाए लेकिन show में सेकंड रनरअप रहे थे| इस कॉमेडी शो की सक्सेस के बाद से राजू ने करियर में कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा| अपने कॉमिक एक्ट के अलावा राजू श्रीवास्तव सदी के महानायक अमिताभ बच्चन की मिमिक्री के लिए भी फेमस हो गए थे| राजू ने कई रियलिटी शोज में भी काम किया|

वर्ष 2010 में अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम (Dawood Ibrahim) के द्वारा फ़ोन पर धमकी मिलने के बाद से राजू ने अडरवर्ल्ड पर कॉमेडी और जोक करना बंद कर दिया। क्योंकि फ़ोन पर उन्हें जान से मारने की धमकी दी जा रही थी। इसके बाद वर्ष 2013 में राजू ने अपनी पत्नी के साथ डांसिंग का फेमस टीवी शो नच बलिये के सीजन 6 में भाग लिया था। पर वह यह शो जीत नहीं पाए थे। एक बार राजू श्रीवास्तव ने मच्छर चालीसा को बनाया, जिसके चलते उन्हें हिंदू संगठनों द्वारा कड़ी आलोचनाओं का सामना करना पड़ा हिंदू संगठनों का कहना था की वह हिंदू देवी देवताओ की गरिमा को अपमानित कर रहे थे।

एक्टिंग, कॉमेडी के बाद राजू ने राजनीति में एंट्री मारी| उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी की तरफ से राजू ने चुनाव भी लड़ने वाले थे लेकिन बाद में राजू ने चुनाव टिकट वापस कर बीजेपी ज्वाइन कर ली। भारत के स्वछता अभियान के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के द्वारा राजू श्रीवास्तव को नामांकित भी किया गया था।

राजू श्रीवास्तव 10 अगस्त को दिल्‍ली में काम के सिलसिले में थे। वह हर दिन की तरह होटल में ट्रेडमिल पर वर्कआउट कर रहे थे और इसी दौरान उन्हें अटैक आया और वह बेहोश हो गए। उन्हें फौरन दिल्ली के एम्स में भर्ती कराया गया। हॉस्पिटलाइजेशन के बाद से ही वह वेंटिलेटर पर थे और बताया जा रहा था कि उनके ब्रेन ने काम करना बंद कर दिया है। इलाज के दौरान डॉक्टरों ने दो स्टेंट लगाए थे। इसके बाद 13 अगस्त एमआरआई में राजू श्रीवास्तव के सिर की एक नस दबी होने की बात भी बताई गई।

दिल्‍ली के एम्‍स में 42 दिन तक जिंदगी की जंग लड़ने के बाद बुधवार 21 सितंबर 2022 को 59 साल की उम्र में उनका निधन हो गया।

तो दोस्तों आपको राजू श्रीवास्तव जी की ये inspring बायोग्राफी कैसी कमेंट में हमे जरुर बताये और कमेंट बॉक्स में उनकी आत्मा की शान्ति के के लिए 2 शब्द जरुर लिखे| चैनल को सब्सक्राइब जरुर करे

Big 6 Cinematic Universe movies of Lokesh Kanagaraj

0
Lokesh cinematic universe (LCU), vikram 3, kaithi 2, mayavi

Lokesh cinematic universe (LCU) एक तमिल भाषी एक्शन थ्रिलर फिल्मों का एक cinematic universe है जिसके निर्माता है लोकेश कनगराज| लोकेश के cinematic universe में अभी तक 2 फिल्मे आ चुकी है| kaithi जो 2019 में रिलीज़ हुई थी और दूसरी vikram जो 3 जून 2022 में रिलीज़ हुई थी| vikram 2022 तमिल फिल्म franchise की दूसरी सबसे ज्यादा कमाई करने वाली फिल्म थी|

Lokesh cinematic universe (LCU), vikram 3, kaithi 2, mayavi
Lokesh cinematic universe (LCU)

Cinematic Universe movies of Lokesh Kanagaraj

लोकेश कनगराज बताते है की पहली फीचर फिल्म मनागरम के बाद से ही उन्होंने सोच लिया था की वो एक भारतीय cinematic universe बनाना चाहते थे| वो अपनी फिल्मो का विस्तार करना चाहते थे जिसमे कई फिल्मे और उनके कलाकार एक साथ जुड़े हो| फिर उन्होंने इसकी शुरुआत की kaithi movie से की| लोकेश कनगराज बताते है की kaithi movie की की प्रोडक्शन के दोरान ही उन्होंने एक एक्सपेरिमेंट करने का सोचा और उन्होंने kaithi film की कहानी को ख़त्म न करके उसे आगे के लिए खुल्ला छोड़ दिया , ताकि वो भी अपना, अपनी फिल्मो के साथ एक cinematic universe बना सके|

vikram 1986 के राइट्स Raaj Kamal Films International और Dream Warrior Pictures के पास थे, तो लोकेश कनगराज ने Raaj Kamal Films International से बात करके vikram 2022 को kaithi फिल्म में शामिल किया था| और अब दोनों मिलकर आगे के Lokesh cinematic universe (LCU) पर साथ काम करेंगे| जिसमे kaithi 2 vikram 3 जैसी फिल्मे होंगी| नारायण इकलोते ऐसे बड़े एक्टर है जिनका दोनों फिल्मो में बड़ा अहम् रोल है| चूंकि विक्रम 2022 agent vikram 1986 के चरित्र को जारी रखता है, इसीलिए विक्रम 1986 को भी LCU में शामिल किया गया है।

Also Read:-

Big 6 Cinematic Universe movies of Lokesh Kanagaraj

Thalapathy 67: Vijay

Vikram 3 Movie और Kaithi 2 Movie के बाद वर्तमान में, लोकेश कनगराज कॉलीवुड स्टार विजय के साथ अपने अगले प्रोजेक्ट की स्क्रिप्ट तैयार करने में व्यस्त हैं। कुछ महीने पहले खबर आई थी कि लोकेश कनगराज ने विजय की फिल्म में villain की भूमिका के लिए एक और कॉलीवुड स्टार धनुष से संपर्क किया था। अब Thalapathy 67 की नई अपडेट ये है की इस फिल्म में एक या 2 नही पुरे 6-6 खलनायकों की भूमिका निभाने की योजना बना रहे हैं। यानी जैसे warner brothers के dc universe में जैसे suicide squad थी, ठीक उसी तरह लोकेश भी सिर्फ villains को लेकर एक अलग से फिल्म बनाने वाले है| अगर ऐसा है तो लोकेश ने अपने cinematic universe को एक बहोत बड़े मुकाम पर ले जाना चाहते है|

Thalapathy 67 movie , Thalapathy 67 movie film
Thalapathy 6 movie poster

Thalapathy 67 movie इस 2022 के आखिर तक रिलीज़ होने संभावना है। कहानी क्या होगी वो तो फिल्म देखने के बाद ही पता चला चलेगा और ठीक भी है वरना कहानी पहले से ही पता हो तो फिल्म देखने में उतना मजा नहीं आता जब कहानी पता हो|

Irumbu Kai Mayavi: Suriya

vikram 2 में suriya का लास्ट में एक cameo रोल है जोकि vikram 3 में expand होगा| लेकिन लोकेश कनगराज vikram 3 से पहले ही suriya को अपनी science fiction फिल्म के sign कर चुके है| इस फिल्म का नाम होगा, Irumbu Kai Mayavi(इरुम्बु काई मायाविक) यानी लोहे के हाथ का भ्रम|

Irumbu Kai Mayavi movie, Irumbu Kai Mayavi film, Irumbu Kai Mayavi suriya
Irumbu Kai Mayavi

Irumbu Kai Mayavi movie “The Steel Claw” नाम के एक कॉमिक नावेल से प्रेरित है| फिल्म में एक ऐसे व्यक्ति की कहानी दिखाई गयी है जो एक एक्सीडेंट में अपना एक हाथ खो देता है| और फिर उसे लोहे का एक robotic हाथ लगा दिया जाता है, और दुश्मनों से लड़ता है|

Unnamed Movie: Ram Charan

july 2022 में लोकेश कनगराज ने तेलुगु सुपरस्टार राम चरण से मुलाकात की थी और उन्हें अपनी आने वाली फिल्म की कहानी सुनाई थी। और फिर थोड़े ही दिनों बाद लोकेश ने एक interview में बताया था की राम चरण के साथ जल्दी ही उनकी एक फिल्म आने वाली है| जिसकी आधिकारिक घोषणा जल्द ही होने की उम्मीद है। राम चरण, जो वर्तमान में RC 15 नामक आगामी फिल्म के लिए शंकर के निर्देशन में काम में व्यस्त हैं, अपनी अगली फिल्म के लिए लोकेश कनगराज के साथ उनके cinematic universe में काम करने के लिए पूरी तरह तैयार हैं।

Rolex: Suriya

karthi की viruman के ट्रेलर लांच के दौरान, suriya और karthi ने बहोत से हिंट दिए थे की Vikram में जो Suriya का rolex वाल जो cameo था| उसके ऊपर फिल्म आ सकती है| जिसमे Rolex (suriya) और Dilli (karthi) की दुश्मनी दिखाई जायेगी|

rolex movie, relex film, rolesx suriya
rolex movie: suriya

तो दोस्तों ये थी Lokesh Kanagaraj के cinematic universe की कुछ आने वाली फिल्मे और भी जैसे ही इनकी फिल्मे आती रहेगी| हम आपको अपडेट करते रहेंगे|

Brahmastra Part One – Shiva Full Movie in HD Leaked on Torrent Sites & Telegram Channels for Free Download and Watch Online?

0

Brahmastra Leaked Online: Ranbir Kapoor and Alia Bhatt’s magnum opus has now been leaked online on the day of its theatrical release. Directed by Ayan Mukerji, Brahmastra is one of the most anticipated movies of the year and it introduces the audience to a new world altogether. The fantasy drama is about ‘love and light’ and impresses the audience with its stunning visuals. However, the film has become the latest target of piracy sites including Tamilrockers and Telegram. Hours after its release in theatres, Brahmastra was leaked in HD quality for free download.

Brahmastra shows the world of ‘Astras’ – divine powers that team up to protect the greatest power in the world – Brahmastra, which can destroy the entire universe. In the backdrop of this fantasy, there’s a real love story. Ranbir Kapoor‘s Shiva and Alia Bhatt‘s Isha are too much in love to explain. Together, they are the love and light that Brahmastra represents. 

Brahmastra Leaked Online, Full HD Available For Free Download Online on Tamilrockers and Other Torrent Sites

This is not the first time a film has got leaked on day 1 of its release. House of the Dragon Episode 1 and House of the Dragon Episode 2 was also leaked online on the piracy website. Bollywood films which recently released including Liger, Laal Singh Chaddha, Raksha Bandhan, Dobaara, RRR, Pushpa, and other biggies were also leaked by these notorious websites. Several strict actions against the site have been taken in the past but it has been found that the team behind the site appears with a new domain every time the existing Tamilrockers site is blocked. If they are banned, they take a new domain and run pirated versions of the movies. In the case of the big theatre releases, Tamilrockers is known to leak the films just a few hours before the films are set to hit the screens.

Also Read:- Laal Singh Chaddha (2022) Free HD Movie Hindi | Download Online on Tamilrockers and Other Torrent Sites Links

Brahmastra leaked online

Interestingly, Star India had appealed to the Delhi High Court regarding the nuisance the online piracy sites create and the court blocked 18 such rogue sites. But Latestly has reported that the Brahmastra is still leaked online on various torrent sites. This is not the first time a big release has fallen prey to piracy. Just recently biggies like Cobra, Liger, Laal Singh Chaddha, Cuttputlli, and many more were also leaked online within hours of release.

Brahmastra OTT release

We urge our readers to not watch Brahmastra’s leaked online version and only watch it in theatres. Online piracy is an offense under the Copyright Act of 1957 and it also hits the business of cinema. Watch films only in theatres or on authorized OTT platforms at the time of digital release. As for the Brahmastra OTT release, stay tuned to BollywoodLife for exclusive details. We have some interesting information coming your way today on Ranbir Kapoor and Alia Bhatt’s film’s OTT release platform and date.

Brahmastra Movie Free HD Tamilrockers | Download Online Brahmastra Movie | Box Office Collection

0

Brahmastra Movie Download Tamilrockers. Brahmastra Full Movie Download Trends on Google and people have been searching for these trends to stream the movie for free. They are trying for Brahmastra Movie Download Tamilrockers, which is now trending on Google. But, searching for Brahmastra Movie Download Tamilrockers is really safe? Is it legal? Absolutely NOT! Want to know why? What could be the impact of using these websites? Just give read below to get a clear idea about these Torrent websites and know the consequences of using them. So, here you go!

Brahmastra Movie Download Tamilrockers

People have started to search Brahmastra Movie Download Tamilrockers, to stream the Brahmastra Movie for free. Well, Tamilrockers is a torrent website, so when you try downloading this movie, then you will have to come across a lot of risk factors. Torrent websites are those websites, which illegally leak movies, and series, on their website. People generally visit these sites to download and watch movies for free, which may lead to getting your device hacked! Yes. This literally means you are giving access to the data which you have on your device. Most people unaware of the consequences, just go and download movies via these websites. But before doing so, one must know how risky it could be.

Brahmastra Movie Review

Impact of Downloading Movies from Torrent Websites

Most people are unaware of the impact of downloading movies via Torrent Websites. By accessing Torrent websites and downloading movies in them, you are placing your device at high risk, giving it a chance to get hacked. Also, searching for these websites would also create complexity in your device, resulting in privacy threats too. By downloading movies via such websites, you give access to your device, where your files and other data you have on your device can be acquired very easily. So, kindly make sure that you don’t access these websites and keep your device data safe. Hope this article was useful for you!

Brahmastra Movie Download Tamilrockers

Brahmastra Movie Download Tamilrockers is one of the trending searches by the fans of Brahmastra Movie. Tamilrockers is a pirated website that illegally leaks movies, web series, and videos for free. If any movies are leaked by Tamilrockers, people should avoid using them and use the legal platform. Doing so would be a great support for the film industry.

Brahmastra Movie Download Filmywap

Doing piracy of copyright is illegal and it is considered a crime. People who search for Brahmastra Movie Download Filmywap this article is for you. On the torrent website, Filmywap users can download the latest movies, Bollywood movies, dubbed Hindi movies, etc. But using this torrent website is safe? No, it is not safe, as this is a third-party website it is illegal to use it. Avoid using torrent websites and start using legal platforms.

Brahmastra Movie Download Pagalworld

Pagalworld is a popular torrent website that offers Hollywood, and Bollywood movie downloads, Tamil Movies, and Marathi movies for free. Using this torrent website Pagalworld you can download Tamil, Marathi, and Telugu Movies for free.

Brahmastra Movie Download Tamilrockers

We can see people searching for Brahmastra Movie Download Tamilrockers, as many fans are eager to watch the movie. But watching or downloading movies from Tamilrockers torrent websites is illegal.

Brahmastra Part 1 Movie 2022 1st day Box Office Collection

Brahmastra Movie Part is going to release in India on 19th September 2022. Now it will be interesting to see whether the Brahmastra movie will be able to cross the 50 crore mark amid boycott slogans or will also prove to be a flop movie of this year. Ayan Mukerji directed this movie. This dialogue has been given by Hussain Dalal. The producers of this movie are Karan Johar, Apoorva Mehta, Ranveer Kapoor, Amitabh Bachchan, Ranveer Kapoor, and Alia Bhatt have played lead roles in this movie.

As per Variety, the story of Brahmastra isn’t a usual boy meets girl and falling in love like a typical Bollywood movie follows. It mixes Bollywood elements with mystical powers from mythology and creates its own universe called the Astraverse. The Astras are made of the basic elements of earth, air, fire, water, and wind along with the strength and abilities of that of certain animals. Also Read – Brahmastra box office collection: Ranbir Kapoor, Alia Bhatt film’s advance booking set to overtake Baahubali 2 and KGF 2 to become best ever in Indian cinema.

Ranbir Kapoor aur alia bhatt ki film brahmastra part 1 shiva release to ho gayi hai aur dharma production vale ye khabar faila rahe hai ki film ki opening jabardast rahi hai, aur ye film hit hai jabki abhi isne apne budget ka sirf 38%, ji haa sirf 38% hi recover kiya hai. Aur is movie ko chalte chalte 7 din ho chuke hai, jabki 500 crore mai bani RRR ne pahle 3 dino mai hi apni lagat yaani 500 crore kma liye, aur dusri taraf KGF chapter 2 jo 100 crore mai bani thi usne 3 dino mai 400 crore kma liye the, aur brahmastra jisko karan johar aur uski team ye kahti nhi thak rahi ki, record tod daale har jagah, usne 7 dino mai 200 crore ka aankada bhi nhi chhua hai. Aur abhi brahmastra apni lagat nikalne mai kaafi piche hai.

Nepotizam vs Janta  

karan johar ye sabit krne ke chakkar mai hai ki nepotizam ki jeet huyi aur janta ki haar huyi hai. Janta yaani boycott gang, ab vo ye sochte hai boycott gang alag hai, aur janta alag, jabki janta hi boycott gang hai , lekin karan johar aur pura Bollywood ye maanne ko taiyaar nhi hai Lekin bollywood hungama ki report ke anusaar opening weekend yaani shukrwaar se ravivaar tak, is film ki kamai lagbhag 121 crore huyi hai. isme agar videshi collection ko jod de to ye 209. 47 core honge. jo dhrma production ke aankdo se kahi kam hai   aur agar gharelu aankdo ki taraf dhyaan de to 410 crore ke bajat ke mukable ye uska aadha bhi nhi hai

andraboxoffice.com ke anusaar brahmastra aik bade failure ke taraf badh rahi hai, 5 din brahmastra film ka total net collection, india mai abhi lagbhag 144 crore hi hai.

India mai is film ki gross income yaani saare madhyamo se jo income hui hai, bina kisi tax aur charges kate, vo hai 168 crore

Bahar videsho se kamayi huyi hai 78 crore aur puri dunia mai brahmastra ka box office collection hai 246 crore

Yaani abhi 38% brahmastra film ka box office collection hua hai. Full recovery ke liye brahmastra ko kam se kam 650 crore to kmaane hi padenge. 

Chalo ye baat to thik hai ki brhmastra ka budget kya tha, brahmastra ka box office collection kya hai, lekin film bhi to ghatiya hain aa, naa jaane kitne hi critics ne is film ko bakaar kaha, critics jaye bhaad mai, jab janta ko hi acchi nhi lagi jiske liye bnayi thi, to film kharab hai. Baat to vhi khtm ho jaani chahiye.

Manoj desai jinke 3 theatre Mumbai mai chalte unhone bola ki ye sirf aik love story hai jiski koi aatma nhi hai. Overall ghuma fira ke vo vahi bole ki film mai kuch nhi hai. Ab brahmastra film ko vo apne  aik theatre mai se vo hta chuke hai aur dusre 2 theatre mai ticket ki price kam krke logo ko dikhane ke chakkar mai hai

Brahmastra Hit or Flop

Story ke hisaab se to film mai kuch bhi nahi hai, acting wise log bol rahe hai Amitabh ji ne bahot achi acting ki hai, lekin Amitabh ji is filmmai Amitabh hi hai, unhone kuch extra oridinary nahi kiya jis se kaha jaaye ki unki

Acting jabardst thi, baat kare nagaarjuna ki to film mai unke 2 4 scene hai usmebhi log bol rahe hai ki wah kya acting ki hai, are bhai jab tak log nagaarujna ki acting se connect ho paate, tab tak to nagarujna ki kahani hi khatam ho jaati hai, 

Aur baat kare ki ranbeer ki to bhaiyo, maine jitney log ghatiya acting krte dekhe hai, unme ab ranbeer bhi shamil ho gya hai, bahot hi umda class ki ghatiya acting unhone ki hai

Rahi baat aalia bhatt ki to vo puri film mai shiva tum kon ho

Shiva kya hua……………..

Shiva ko dore pad rahe hai ……………….

Shiva shiva karke bas chilaati rahti hai……………….

Aur jo villain hai moni raoy ki bhi thik thak hi thi ……………

Film ke andar shudh hindi shabdo ke bich urdu shabdo ka prayog bahot hi ganda aur galat lag raha tha, aur jo baat maine pichle video mai batayi thi ki pahle ye kahani dragon par adhaarit thi to isme bhi Amitabh ji kai baar ranbeer ko dragon bnane ki baat kahte hai, aur dharam adharm ki kahi baat nhi hai, sach jhut, nayay anyaay, kahi kuch nhi hai, bas dharti tabah ho jaayegi, light bachi rahni chahiye, light vight bramsatra falna dhikna kuch nhi hai, sab kuch pyaar hai,

Kya vfx vfx laga rakha hai logo ne, is seacche VFX Bahubali mai the, aparichit mai the, RRR mai the. VFX mai aisa kuch nhi tha ki VFX ki taarif ki jaaye.

Ye sirf Indian audience ko manipulate krne ke liye ki VFX to jabardst the, sudeep kichha ki vikrant rona ko aap dekh le, brahmastra ke vfx aap bhul jaayenge, Koi vfx nhi hai, bas snapchat ke filters hai bas,

Theater saare khali pade hai to itni kamayi ho kaha se rahi hai ye bhi kamal ki baat hai, aur log khali theatre ki photso videos share kar rahe hai, lekin aik bhi video ya photo aisi nhi aayi jisme ye dikhaya gya ho ki housefull hai, aur log movie enjoy kar rahe hai

Baat ye hai ki film ke release hone ke dusre hafte budhvaar ko film ne sirf 9.5 crore hi kamaye aur ab dhire dhire ye niche hi jaayegi, upar to jaane se rahi

To dosto bhramstra film hit gayi ya flop

To iska jawab hai film flop ho chuki hai, ab koi kuch bhi bole, lekin bhramstra flim ho chuki hai flop.

Aur dosto aapki ray bhi bta do ki brahmastra flop hai ya hit, comment box mai hit ya flop hi likh do usi mai sabko pta lag jaayega.

Brahmastra Movie Download Filmyzilla

Filmyzilla is one of the popular torrent websites for leaking Tamil movies, Bollywood movies, and dubbed movies for free. We can see people searching on Brahmastra Movie Download Filmyzilla, so here we can see the impact of downloading movies on the Filmyzilla torrent website.

Filmyzilla torrent website uploads movies once it is released, doing piracy of the copyrighted content is illegal. So using a torrent website like Filmyzilla for streaming or movie downloading is illegal.

Brahmastra Movie Download Filmymeet

Filmymeet, this torrent website also leaks Tamil, Telugu, and Hindi Dubbed Movies for free. The movies are available on the torrent website Filmymeet and can be downloaded in 720p, 480p, HD, and 1080p 300Mb. Users can download unlimited movies from Filmymeet, but it is illegal. People who are in search of Brahmastra Movie Download Filmymeet should note that they are in the wrong search, so use the legal ways for downloading movies.

Free Download Brahmastra Movie

Brahmastra Movie Download 7starhd

7starhd and 7starhd.com is other popular pirated website for downloading Hollywood, Bollywood, Tamil, and Telugu Movies for free. Many torrent websites also have telegrams from where the users can download movies. But as mentioned earlier, using pirated websites is a crime, so we do not recommend using 7starhd and other torrent websites.

Brahmastra Movie Download Moviesflix

There are many torrent websites like Moviesflix that illegally leak movies for free. Likewise, there are people who are searching for Brahmastra Movie Download Moviesflix. Downloading movies for free from a torrent website is a crime.

Brahmastra Movie full Movie Download on OTT Platform Releasing Date

Ranveer Kapoor’s previous film Shamshera flopped. Now Ranveer Kapoor has a lot of hope about this. Again he would like to make a comeback in Bollywood and anyway, Bollywood days are not going well these days. Where other South films are dominated by that noise, will Brahmastra’s movie be able to cut the weapon of Boycott or will it also be included in the list of flops like his previous films?

Directed byAyan Mukerji
Written byAyan Mukerji
Dialogue byHussain Dalal
Produced byKaran Johar, Apoorva Mehta, Namit Malhotra, Ranbir Kapoor, Marijke Desouza, Ayan Mukerji
StarringAmitabh Bachchan, Ranbir Kapoor, Alia Bhatt, Mouni Roy, Nagarjuna Akkineni
CinematographyV. Manikandan Pankaj Kumar Sudeep Chatterjee Vikash Now lakha Patrick Duroux
Edited byPrakash Kurup
Music byScore:
Simon FranglenSongs:
Pritam
Production
companies
Star Studios Dharma Productions Prime Focus Starlight Pictures
Distributed byStar Studios (India) Walt Disney Studios Motion Pictures (International)
Release date9 September 2022
Running time167 minutes
CountryIndia
LanguageHindi
Budgetest. ₹410 crores

Brahmastra Movie Download Khatrimaza

Khatrimaza is a torrent website that allows users to download movies and various content. The download speed is high and users can download movies in various formats.

Brahmastra Movie Download Coolmoviez

Those people who search for Brahmastra Movie Download Coolmoviez should be aware of the torrent websites because using a torrent website like Coolmoviez is illegal. This torrent website has leaked many movies in HD quality and because of this many people are using this torrent website.

Brahmastra Movie Download Tamilyogi

Tamilyogi, this website leaks Tamil movies, Tamil dubbed movies. Many latest movies are leaked by the Tamilyogi torrent website, but as we stated before it is crime to use a torrent website, so people should avoid using torrent websites.

Brahmastra Movie Download mp4moviez

mp4moviez leaks Hindi, Hollywood movies, and Hindi dubbed movies for free. Once a movie is released, mp4moviez uploads the movie illegally on its website. It is a crime to pirate a movie and downloads a piracy movie. So people should avoid searching on Brahmastra Movie Download mp4moviez and use legal ways for streaming the movie. 

Brahmastra Movie Pagalmovies

Pagalmovies, this torrent website is a popular torrent website that allows users to download Bollywood, Hollywood, Tamil, and Telugu movies. This torrent website has leaked many movies illegally, so it is also safe to use legal platforms to watch your favorite movies.

Brahmastra Movie Download 9xMovies

9xMovies the torrent website allows its users to download unlimited movies for free. The website is user-friendly and so many people are using the torrent website to download movies. Recently we could also see that people searching for Brahmastra Movie Download 9xMovies. As we stated earlier using the pirated websites is a crime. So avoid using pirated websites like 9xMovies, Tamilyogi, Moviesflix, Tamilrockers, etc.

Brahmastra Movie Download Kuttymovies

Kuttymovies is also a pirated website famous for Tamil movies download, Tamil dubbed movies download. The content available on the torrent website Kuttymovies is all pirated content. Users are allowed to download unlimited movies from the torrent website. 

Brahmastra Movie Download iBomma

iBomma, this website also leaks Hollywood, Hindi, and Hindi dubbed movies for free. But using iBomma and other torrent website is not safe and we do not recommend using torrent websites.  

Brahmastra Movie Download Related Searches

  • Brahmastra Movie Download Isaimini
  • Brahmastra Movie Download Tamilrockers
  • Brahmastra Movie Download Filmyzilla

Disclaimer: Hirelateral doest not promote piracy and is strictly against online piracy. We understand and fully comply with the copyright acts/clauses and ensure we take all steps to comply with the Act. Through our pages, We intend to inform our users about piracy and strongly encourage our users to avoid such platforms/websites. As a firm we strongly support copyright act. We advise our users to be very vigilant and avoid visiting such websites.

दिल्ली शराब घोटाले की Chronology|अरविन्द केजरीवाल और मनीष सिसोदिया पर CBI Raid

0

नमस्कार दोस्तों स्वागत है आपका काम की बात में मैं हूँ आनंद और इस विडियो में हम आपको बताएँगे अरविन्द केजरीवाल और मनीष सिसोदिया द्वारा जो शराब घोटाला हुआ है उसकी पूरी जानकारी और सच्चाई लेकिन आगे बढ़ने से पहले आप हमारे काम की बात YouTube चैनल को चैनल को सब्सक्राइब कर ले और जिन्होंने किया हुआ है वो एक बार फिर unसब्सक्राइब करके सुब्र सब्सक्राइब कर ले और बेल आइकॉन जरुर दबाये| तो चलिए सझते है अरविन्द केजरीवाल और मनीष द्वारा संचालित कथित दिल्ली शराब घोटाले की क्रोनोलॉजी

दिल्ली शराब घोटाला | नई आबकारी पालिसी

4, सितम्बर, 2020 को आम आदमी पार्टी ने कहा था की हम एक नयी excise policy ला रहे जोकि ना की सिर्फ liquor business से भ्रस्ताचार दूर करेगी बल्कि एक बहोत बड़ा master stroke होगा| लेकिन शायद अरविन्द केजरीवाल भूल गए की इस देश में master stroke सिर्फ एक ही आदमी मार सकता है|

October 13, 2020 तो आम आदमी पार्टी ने एक एक्सपर्ट कमिटी बनाई और नई excise policy यानी आबकारी निति पर उनसे राय मांगी|
जिसके बाद 5 फरवरी, 2021 को एक प्रस्ताव बनाया गया और नई excise policy को एक जीओएम यानी अपने Group of Ministers को प्रस्तुत किया गया और बाद में इसे अप्रैल 2021 में कैबिनेट में मंजूरी दी गई।

कैबिनेट से मंजूरी के बाद यह नीति दिल्ली के तत्कालीन एलजी अनिल बैजल को भेजी गई थी। उन्होंने इस नीति को लेकर अपनी कुछ चिंताएं जताई थी और कहा था कि इसमें छह पॉइंट ऐसे हैं जिनमें बदलाव की गुंजाइश है|

कैबिनेट ने फिर से नीति की समीक्षा की और जिन मुद्दों पर एलजी ने अपनी चिंता व्यक्त की थी, उन्हें ठीक किया गया, जिसके बाद इसे 5 नवंबर, 2021 को कैबिनेट द्वारा पारित किया गया और 17 नवंबर, 2021 को दिल्ली सरकार ने अपनी मास्टरस्ट्रोक नई आबकारी नीति को अधिसूचित कर दिया । .

Chapter 2 | दिल्ली के एलजी को मुख्य सचिव का पत्र

अब तक सब कुछ ठीक चल रहा था लेकिन आम आदमी पार्टी की परेशानी तब शुरू हुई जब दिल्ली के मुख्य सचिव ने 5 जुलाई 2022 को एलजी को एक रिपोर्ट भेजी जिसमें उन्होंने नई आबकारी नीति की आड़ में हो रही गड़बड़ी के बारे में बताया| एलजी ने मामले की गंभीरता को देखते हुए इस पर संज्ञान लिया और सीबीआई जांच का आदेश दिया| आम आदमी पार्टी दावा करते थी कि पुरानी आबकारी नीति के कारण बहुत बड़ी कालाबाजारी हो रही थी, बहुत भ्रष्टाचार हो रहा था और दुकानें इस तरह से चल रही हैं कि कोई भी व्यक्ति वंहा जाना नहीं चाहता था| और सरकार का काम शराब बेचना नहीं है, इसलिए वे इस धंधे से बाहर निकलना चाहते हैं।

पुरानी आबकारी नीति के तहत दिल्ली में कुल 864 शराब की दुकानें थीं, जिनमें से 475 सरकारी और बाकी प्राइवेट दुकाने थीं। हर दूकान का एक ही लाइसेंस धारक होता था। दिल्ली सरकार हर एक बोतल पर उत्पाद शुल्क यानी tax लेती थी और हर दुकान को एक फिक्स्ड लाइसेंस फीस का देनी पड़ती थी।

नई आबकारी नीति के तहत, सरकार ने दिल्ली को 32 क्षेत्रों में विभाजित किया और प्रत्येक क्षेत्र में 27 दुकानें खोलने का निर्णय लिया, यानी कुल 849 नई शराब की दुकानें।
व्यक्तिगत लाइसेंस देने के बजाय, सरकार ने फैसला किया कि वह ज़ोन को लाइसेंस देगी, यानी एक ज़ोन की 27 शराब की दुकानों का मालिकाना हक़ एक ही इकाई के पास होगा।

इतना ही नहीं, सरकार ने बेची गई हर एक बोत्तल पर tax ना लेकर एक lump sum excise duty उत्पाद शुल्क लेने का प्रावधान किया , यानी यदि आप 100 बोतलें बेचते हैं, तो आपको वही शुल्क देना होगा जो आपको 100,000 बोतलों के लिए देना होगा। मतलब 100 बोतलें बेचो या 100000, tax एक जैसा ही जाएगा| नई आबकारी नीति के तहत सरकार ने शराब पीने की उम्र 25 से 21 कर दी थी और dry days जोकि 21 दिन थे उन्हें घटाकर 3 दिन करने का भी वादा किया था|

इसके साथ ही सरकार ने यह भी कहा था कि शराब बनाने वाले इसे रिटेल में नहीं बेच सकते, उन्हें केवल distributer के माध्यम से ही शराब बेचनी होगी. सरकार ने दुकानों को एमआरपी से कम कीमत पर बेचने की अनुमति भी दी, और वैट की दर को भी 25% से घटाकर 1% करने वाले थे। सरकार ने दावा किया था कि इसके बाद उनके राजस्व में 20 प्रतिशत की वृद्धि होगी। दिल्ली सरकार का कहना था की उन्हें को लगभग रु.9000 करोड़ रुपये लाइसेंस शुल्क प्राप्त होगा जो पहले आरक्षित मूल्य से 2000 करोड़ रुपये ज्यादा है|

असली खेल तब शुरू हुआ जब नई आबकारी नीति के तहत नई शराब की दुकानें खोली जानी थीं, लेकिन पहले दिन मुट्ठी भर दुकानें ही खुल सकीं, बाद में नई आबकारी नीति के तहत business न होने की अवस्था का हवाला देते हुए केवल 644 दुकानें ही खोली जा सकीं, कई ने तो अपने लाइसेंस सरेंडर कर दिए।

अब शराब की 90% दुकानों ने 50% छूट पर शराब बेचना शुरू कर दिया, अब जो बड़े खुदरा विक्रेता जिनके पास manufacturing and distribution लाइसेंस वो तो 50% की छूट पर शराब बेच सकते थे लेकिन छोटे दूकान दार ऐसा नही कर सके

इस भारी छूट के आगे छोटे रिटेल दुकानदारों ने दम तोड़ दिया और जुलाई 2022 में दिल्ली शराब व्यापार संघ ने अदालत में एक हलफनामा दायर किया| जिसमे अदालत से अनुरोध किया गया था की नई आबकारी नीति को असंवैधानिक घोषित किया जाए क्योंकि यह केवल बड़ी शराब कंपनियों के हितों को ध्यान में रखते हुए बनाई गयी है|

इस नीति ने दिल्ली को शराब की राजधानी बना दिया। जहां औसतन 1.35 करोड़ लीटर शराब बिकती थी, इस नीति के लागू होने के बाद यह औसत बढ़कर 2.45 करोड़ लीटर हो गया, हालांकि, इस वृद्धि के बावजूद, शराब से होने वाली इनकम में 37 प्रतिशत की कमी आई|

नई आबकारी नीति पर जैसे-जैसे जांच आगे बढ़ी, कई बातें सामने आईं, जिसका उल्लेख दिल्ली के मुख्य सचिव की उस रिपोर्ट में है, जिसे उन्होंने 8 जुलाई को एलजी को भेजा था। उस रिपोर्ट में जो तीन मुख्य बातें थीं, वो इस प्रकार है:-

1 मनीष सिसोदिया महामारी का हवाला देते हुए एलजी की मंजूरी के बिना कुछ शराब कारोबारियों की 144 करोड़ रुपये से ज्यादा की लाइसेंस फीस माफ कर दी।

2 मनीष सिसोदिया ने एलजी की मंजूरी के बिना विदेशी बीयर पर आयात पास शुल्क यानी import pass fee 50 रुपये प्रति केस घटा दी थी|

3- एयरपोर्ट ज़ोन की शराब की दुकानों का (30 करोड़ रुपये का लाइसेंस शुल्क यह कहते हुए वापस कर दिया गया कि वो Airports Authority of India से एनओसी नही ले पाए थे, जबकि नीति के अनुसार, एक बार लाइसेंस शुल्क का भुगतान करने के बाद, इसे वापस नहीं किया जा सकता है।

Chapter 4

अब कहा ये जा रहा है कि जिन लोगों का पैसा माफ किया गया और जिनके प्रभाव में यह शराब समर्थक व्यापार नीति बनाई गई, वे आम आदमी पार्टी के करीबी थे और इस नीति की आड़ में पंजाब चुनाव में पार्टी को पैसे का एक बड़ा हिस्सा भेजा गया था।

अब छापेमारी के बाद से ही @आम आदमी पार्टी हर दिन एक नई कहानी लेकर आती है, जैसे मनीष सिसोदिया का दुनिया का सबसे बेहतरीन शिक्षा मंत्री बताना कभी उनके लिए भारत रत्न मांगते हैं, तो कभी कहते हैं कि बीजेपी पार्टी को तोड़ना चाहती है तो कभी ऑपरेशन लोटस फेल हो गया है वगरह वगरह हालांकि, जब यह जवाब देने की बात आती है कि पॉलिसी क्यों वापस ली गई, तो कोई जवाब नहीं देता।

तो दोस्तों आपको विडियो कैसी लगी कमेंट करके जरुर बताये और हमारे youtube चैनल को सब्सक्राइब करे जिन्होंने किया हुआ है वो एक बात unsubscribe करके दुबारा सब्सक्राइब कर ले और बेल आइकॉन दबाये और हमारी आर्थिक सहायता करने के लिए सुपर थैंक्स का बटन एक बार जरुर दबाये|

Vikram Vedha Teaser REVIEW | Reaction | Facts | Breakdown | Filmy Chaupal

0

दोस्तों क्या आपको पता है विक्रम वेधा में पहले शारुख खान को एप्रोच किया गया था? और फिर बाद में सैफ अली खान को विक्रम और आमिर खान को वेधा के रोल के लिए चूस किया गया| नमस्कार दोस्तों मैं हूँ आनंद और आप सभी का स्वागत है फिल्मी चौपाल में और इस विडियो में हम रिव्यु करेंगे सैफ अली खान और हृतिक रोशन की आने वाली फिल्म विक्रम वेधा के टीज़र के बारे में|

तो आईये, चलिए शुरू करते है ट्रेलर की शुरुआत होती है|एक जेल के अन्दर जन्हा सैफ अली खान यानी विक्रम और वेधा यानी हृतिक रोशन बैठे है, और हृतिक रोशन बोलते है की एक दम साफ़ शुद्ध हिंदी में और फिर अवधी एक्सेंट पकड़ने की कोशिश करते है और बोलते है की, और इसी बीच फिल्म के कुछ scene आते है जिसमे वेधा के भाई को दिखाया गया है, विक्रम के ख़ास दोस्त को दिखाया गया है| और फिर विक्रम वेधा का confront और फिर सैफ अली खान के कुछ स्लो मोशन scene हृतिक रोशन के कुछ स्लो मोशन scenes आते है|

Vikram vedha 2022 trailer reaction and review

इसमें सैफ अली खान SAME sacred game के सरताज सिंह जैसे ही लग रहे है| हाँ हृतिक रोशन का लुक और करैक्टर थोडा अलग है जिसके बारे में हम आगे बात करेंगे| फिर आता है टाइटल बिटवीन गुड एंड ईविल और एक scene जिसमे सैफ अली खान कन्फ्यूज्ड है|और हृतिक रोशन एक psychopath जैसे लग रहे है| और चारो तरह शायद गुंडों से घिरे हुए है|

फिर हम देखते है सैफ अली खान और राधिका आप्टे को, राधिका आप्टे इसमें बनी है वेधा की लॉयर और विक्रम यानी सैफ अली खान की वाइफ बनी है| और फिर सैफ अली खान और हृतिक के कुछ और वाइड to मीडियम शॉट्स फिर हृतिक रोशन दुबारा “हिंदी” में बोलते है लेकिन अगली ही लाइन में अवधी शुरू कर देते है| फिर हथोडा मारने वाला scene इसके बाद सैफ अलि खान को जगह जगह गोली मारते दिखाया है|

फिर हृतिक रोशन को लोगो को पागलो की तरह मार रहे है| गोलिया बरसा रहे है फिर कुछ रैंडम scene जिसमे हृतिक रोशन लोगो को मार रहे है और फिर आता है फिल्म का टाइटल कार्ड और आखिर में ओरिजिनल विक्रम वेधा का इकोनिंक baground स्कोर हमे सुनने को मिलता है| टीज़र में ज्यादा कुछ दिखाया नही गया है ये सोच कर की कही लोगो को कहानी के बारे में कुछ पता ना चल जाए|

इस टीज़र में हृतिक अवधी बोलने की कम से कम कोशिश तो कर रहे है लेकिन सैफ अली खान ने तो कुछ बोला ही नही है, उनका एक भी dialouge इस टीज़र में नही रखा गया है|
कुछ तो बुलवा देते भाई और इसको अगर compair करे र माधवन और विजय सेतुपति की विक्रम वेधा से तो ये फिल्म scene to scene कॉपी है, सिर्फ कुछ लोकेशन changes है, कुछ शॉट्स भी इस टीज़र में है जो हुबहू कॉपी है, ओरिजनल मूवी की हा करैक्टर changes दीखते है जैसे सैफ अली खान अपना वोही sacred games के सरताज सिंह का करैक्टर लेके आ गए है|

लेकिन हाँ हृतिक रोशन ने कुछ अलग करैक्टर पकड़ा है| इसमें वो कही से भी विजय सेतुपति की नक़ल मारते हुए नही दिख रहे है| जन्हा विजय सर का करैक्टर फिल्म में एक दम शांत और कॉंफिडेंट नज़र आता है वही हृतिक का करैक्टर पागल, सनकी नज़र आ रहा है|जो सिर्फ लोगो को मारे जा रहा है, विजय सेतुपति का करैक्टर जानता था मैं क्या कर रहा हूँ, आगे क्या करना है, इसका outcome क्या होने वाला है, लेकिन हृतिक रोशन की आँखों में पागल पन दिख रहा है| जो मजे के लिए ये सब कर रहा है| और हाँ वो हिंदी और अवधी लैंग्वेज में भी कंफ्यूज है| अब मैं आगे आपको बताऊंगा की ये फिल्म फ्लॉप क्यो होगी लेकिन इससे पहले बात करते है casting की

Casting

बात करे इसकी casting की तो पहले इस फिल्म में शाहरुख़ खान को लिया जा रहा था लेकिन उन्होंने मना कर दिया| फिर इसके बाद सैफ अली खान और वेधा के रोल के लिए आमिर खान को कास्ट के लिए पक्का किया गया और जब covid की वजह से प्रोडक्शन लेट होने लगी तो स्क्रिप्ट में भी कुछ changes किये गए|

और आमिर ने 2020 में ये फिल्म छोड़ दी| और आखिर में लिया गया हृतिक रोशन को| फिर राधिका आप्टे आई और फिर आये रोहित शरफ जो बने है वेधा के छोटे भाई| इस फिल्म के डायरेक्टर्स पहले सैफ अली खान की जगह R माधवन को ही विक्रम के रोल के लिए लेना चाहते थे लेकिन माधवन बिजी थे अपनी फिल्म रोच्केतेरी में तो इसलिए वो इस फिल्म में नही आये|

इस फिल्म को शूट किया गया है अबू धाबी में Lucknow का सेट बनाकर जो originally बनाया गया था टाइगर जिंदा है की शूट के लिए | अबू धाबी में सेट लगाकर शूट इसीलिए किया गया क्योकि हृतिक रोशन Lucknow में शूट नही करना चाहते थे| लेकिन स्टूडियो ने बताया की health और protocol के चलते ये शूट अबू धाबी में की गयी थी| इस फिल्म को भी डायरेक्ट किया गया है Pushkar–Gayathri जी द्वारा जिन्होंने ओरिजिनल फिल्म को लिखा और डायरेक्ट किया था| आपको एक बात और बता दे की Pushkar–Gayathri एशिया के एक्लोते शादीशुदा फिल्म डायरेक्टर है | इस फिल्म को co-produce किया है Friday Filmworks, T-Series Films और Reliance Entertainment ने| फिल्म रिलीज़ होने वाली है 30 सितम्बर 2022 को|

The Controversy

तो दोस्तों जैसा की आपको पता है ये फिल्म रीमेक है 2017 में आई र माधवन और विजय सेतुपति statrrer विक्रम वेधा की| तो कुछ लोगो ने इसीलिए इस फिल्म को पहले से ही बायकाट करना शुरू कर दिया है| क्योकि लोग same चीज़, same कहानी नही देखना चाहते और बॉलीवुड वाले रीमेक बनाते रहते है इस चीज़ को लेकर भी लोग नाराज़ है|

फिर सबसे बड़ी बात इसमें सैफ अली खान है जिनकी बीवी ने कहा था की हमारी फिल्मे नहीं देखनी है तो मत देखो, किसी ने जबरदस्ती थोड़ी की है, तो लोग सैफ अली खान की बीवी से भी नाराज़ है, और इन दोनों ने अपने बच्चे का नाम एक मुग़ल आक्रान्ता के नाम रख दिया था तैमुर, कुछ लोग उस से भी नाराज़ है|

जो थोड़े बहोत कंगना के फेन अब बचे है वो हृतिक रोशन से नाराज़ है क्योकि हृतिक ने कंगना को बहोत तंग किया था और उसका carrier ख़राब करने की कोशिश की थी| जैसा की कंगना ने बताया था|

कुछ लोग हृतिक से इसीलिए नाराज़ है क्योकि उन्होंने लाल सिंह चड्ढा का समर्थन कर दिया था जबकि देश की जनता उस फिल्म का boycott कर रही थी| और कुछ लोग हृतिक से इसीलिए नाराज़ है क्योकि उन्होंने zomato के एक ad में हिन्दू देवी देवताओं का मजाक बनाया था|

तो ये सब कारण है की ये फिल्म फ्लॉप जाने वाली है क्योकि लोगो ने इसे अभी से बायकाट करना शुरू कर दिया है और ये फिल्म भो लाल सिंह चड्ढा और रक्षा बंधन की तरह फ्लॉप होगी| जैसा की लोग बोल रहे है|

LAAL SINGH CHADDHA BOX OFFICE COLLECTION DAY 5 WORLDWIDE

0

Aamir Khan and Kareena Kapoor’s Laal Singh Chaddha Box Office Collection Day 5 saw a fall of 15 % from the Sunday numbers despite being an independence day holiday

Laal Singh Chaddha movie review

LAAL SINGH CHADDHA BOX OFFICE COLLECTION DAY 5

7.5 to 8.5 Crore estimate

LAAL SINGH CHADDHA TOTAL TILL NOW BOX OFFICE COLLECTION 

45.46 to 46.46 Crore estimate

For 4 days

37.96 Crore Producer Figure

37.75 Crore Trade Figure

LAAL SINGH CHADDHA WORLDWIDE BOX OFFICE COLLECTION 

98.28 Crore gross worldwide

LAAL SINGH CHADDHA OVERSEAS BOX OFFICE COLLECTION 

$ 5 Million or Rs 44 Crore gross for 4 days

LAAL SINGH CHADDHA DAYWISE BOX OFFICE COLLECTION 

Day 4:

10 Crore Producer Figure

10.25 Crore Trade Figure

Day 3:

9 Crore Producer Figure

8.75 Crore Trade Figure

Day 2:

7.26 Crore Producer Figure

7.25 Crore Trade Figure

Day 1:

11.7 Crore Producer Figure

11.5 Crore Trade Figure

17-20 Crore  was the early Trade expectation before getting reduced to 10-14 Crore after seeing the advance

TOP OPENING DAYS OF 2022 HINDI MOVIES

  1. Bhool Bhulaiya 2- 14.11 Crores
  2. Bachchan Pandey – 13.25 Crores
  3. Laal Singh Chaddha -11.7 Crore
  4. Samrat Prithviraj -10.7 Crore
  5. Gangubai -10.5 Crore
  6. Shamshera – 10.25 Crore
  7. Jugg Jugg Jeeyo – 9.28 Crore
  8. Raksha Bandhan – 8.2 Crore
  9. Ek Villain Returns -7.05 Crore

TOP OPENING DAYS OF 2022 ALL LANGUAGE MOVIES RELEASING IN THE HINDI BELT

  1. KGF 2-  53.95 Crores
  2. Doctor Strange 2 -28.35 Crores
  3. RRR – 20.07 Crores
  4. Thor 4- 18.6 Crores
  5. Bhool Bhulaiya 2- 14.11 Crores
  6. Bachchan Pandey – 13.25 Crores
  7. Laal Singh Chaddha -11.7 Crore
  8. Samrat Prithviraj -10.7 Crore
  9. Gangubai -10.5 Crore
  10. Shamshera – 10.25 Crore
  11. Jugg Jugg Jeeyo – 9.28 Crore
  12. Raksha Bandhan – 8.2 Crore
  13. Ek Villain Returns -7.05 Crore

LAAL SINGH CHADDHA BUDGET

Laal Singh Chaddha has been made on an overall budget of Rs 180 Crores

Aamir Khan‘s salary is in the range of 100 Crores

Producers have given overseas rights to Paramount in exchange for remake rights of Forrest Gump so will not get any money from overseas

RAKSHA BANDHAN VS LAAL SINGH CHADDHA

Raksha Bandhan has a better trend but a lower opening and it might catch up with Laal Singh Chaddha

LAAL SINGH CHADDHA SCREENS

Total approx 3000 screens in India

LAAL SINGH CHADDHA HIT OR FLOP ECONOMICS

Laal Singh Chaddha will be a clean flop. it will not cross even Rs. 100 crore

Laal Singh Chaddha (2022) Free HD Movie Hindi | Download Online on Tamilrockers and Other Torrent Sites Links

0

Laal Singh Chaddha leaked online on Tamilrockers in HD Quality: The most anticipated movie of amir khan’s Laal Singh Chaddha was released in the theater on august 11 2022 also starring Mona Singh, Kareena Kapoor Khan, Naga Chaitanya. Laal Singh Chaddha’s director is Advait Chandan, and this film is a complete scene-to-scene copy or as the officials are saying is an official remake of a 1994 American film Forrest Gump, which is based on Winston Groom’s 1986 novel of the same name. Aamir Khan plays a dimwit Sikh man in Laal Singh Chaddha.

Laal Singh Chaddha (2022) Free HD Movie Hindi

The first reviews of the film have arrived and it looks like people are not accepting amir khan’s acting, his talent, and his evil nature of stealing good films and making them into the garbage. However, there is sad news for the makers and casts and good news for the people who watch move online as Laal Singh Chaddha has been leaked online on torrent websites as well as on websites like send.cm and Tamilrockers on day 1 of its release. After getting bad reviews from the Indian audience amir is trying to release his Laal Singh Chaddha in Pakistan. Aamir khan’s media group approaching Government For NOC

Laal Singh Chaddha (2022) Free HD Movie
A still from laal singh chaddha movie

The early reviews of Aamir Khan’s film Laal Singh Chaddha show that the film is a slow pace mess, and nothing like the original movie tom hank’s Forrest Gump. And we talk about Aamir Khan’s acting as a disaster. Laal Singh Chaddha also features Naga Chaitanya and Kareena Kapoor Khan, Mona Singh all are only on the film to support Aamir khan’s bad acting. People are furious with Aamir khan, how he can make a movie so bad. The public review of Laal Singh Chaddha is a flop.

Also Read:- Taj Mahal is Hindu Temple

Watch Online Laal Singh Chaddha (2022) on Tamilrockers

As everyone knows whenever a movie is released in the theater. It come on the internet on the very first day the movie was released in the theater. The same happened with Laal Singh Chaddha. Laal Singh Chaddha movie 2022 Hindi has been leaked on piracy-based websites like send.cm, Tamilrockers, Telegram, Pagalworld, bolly4u, Filmyzilla, movierulz, and others including torrent websites. Unfortunately, the film’s sudden leak affect the box office collection. Tamilrockers, Telegram, and Movierulz are piracy websites that leak the latest releases. However, this is not the first time a film has got spread on day 1 of its release. There are several films like Akshay Kumar’s Raksha Bandhan, Sita Ramam, Darlings, Shabaash Mithu, Shamshera, Vikrant Rona, Jugjugg Jeeyo, Khuda Haafiz 2, Aashram 3, Major, F3, Anek, Stranger Things 4, Dhaakad, Bhool Bhulaiyaa 2, Heropanti 2, Runway 34, Kaathuvaakula Rendu Kaadhal, Acharya, 83.

The government has several times taken several strict actions against these top piracy sites. But it seems they don’t bother. In the past, but it has been found that the team behind the site appears with a new domain every time the existing Tamilrockers site is blocked. Whenever a site is banned, they take a new domain and run the pirated versions of the latest released movies. Tamilrockers is known to leak the films released in theatres.

People are watching Laal Singh Chaddha Movie HD on these platforms

(Disclaimer: kaamkibaat. in does not promote or support any kind of piracy. Piracy is a criminal offense under the Copyright Act of 1957. We further request you to refrain from participating in or encouraging piracy of any form.)

https://send.cm/bf3kay2i8383 (Just copy this link and paste it to any of the web browsers on which you want to watch the movie)

Laal Singh Chaddha (2022) Free HD Movie
A still from movie laal singh chaddha had movie

Laal Singh Chaddha Movie Telegram Channel

Laal Singh Chaddha Movie is also available on the telegram channel for free download and websites like TelegramGuru are there to share these links

[Download] Laal Singh Chaddha Movie 1080p, 720p, 480p, 360p

Laal Singh Chaddha Movie details

Movie NameLaal Singh Chaddha
Release date11 August 2022
DirectorAdvait Chandan
ScreenplayEric Roth (original)
Atul Kulkarni (adaptation)
BasedForrest Gump
by Winston Groom
ProducerAamir KhanKiran RaoJyoti DeshpandeAjit AndhareRadhika Chaudhari
CinematographySatyajit Pande (Setu)
EditedHemanti Sarkar
MusicScore:
Tanuj Tiku
Songs:
Pritam
Production
companies
Aamir Khan ProductionsViacom18 Studios
DistributedParamount Pictures
CountryIndia
LanguageHindi
CastAamir Khan, Kareena Kapoor, Naga Chaitanya, Mona Singh.

Laal Singh Chaddha Movie download 123mkv

How to download Laal Singh Chaddha movie can be downloaded from websites like the 123 mkv website. If you are going to give information about this through information, then for information, you can tell people that you can download potatoes very easily from here or you will find the bus stand on Google Chrome and you tell people that if you get caught while downloading the load, then we will not have any responsibility because you have to download this movie by visiting a training website, then you people should download the official website because you do not download from private organization. If you download from here people who are movie makers, there is a lot of damage and there is also a possibility of movie flop, so you people should not download from here and you should tell people that if you guys are watching this movie. If you want to see it, then this movie will be released in India Kitne Ma Karo Mujhe very soon, this movie will be released in the cinemas of India on August 11, 2022, you can watch this movie very easily by going there. And tell you people that you must also watch this movie once. Hi in this movie I will get you to see Aamir Khan Kareena Kapoor and Mona Singh who has shown their role very well.

ताज महल एक शिव मंदिर | Taj Mahal: A Temple Palace

0

ताज महल: शुरुआत होती है आगरा से,आगरा को प्राचीनकाल में अंगिरा कहते थे, क्योंकि यह ऋषि अंगिरा की तपोभूमि थी और ऋषि अंगिरा भगवान शिव के उपासक थे। प्राचीन काल से ही आगरा में 5 शिव मंदिर थे। लेकिन अब कुछ सदियों से बालकेश्वर, पृथ्वीनाथ, मनकामेश्वर और राजराजेश्वर नामक केवल 4 ही शिव मंदिर बचे हैं। 5वां शिव मंदिर नागनाथेश्वर था , जो कि तेजोमहालय मंदिर उर्फ ताजमहल था। तेजोमहालय को नागनाथेश्वर के नाम से जाना जाता था, क्योंकि उसके जलहरी को नाग के द्वारा लपेटा हुआ जैसा बनाया गया था। यह मंदिर विशालकाय महल क्षेत्र में था। अगर आप ताज महल देखने गए हो तो आपने ताज महल के सामने जमना के उस पार कुछ दीवारे खड़ी देखि होंगी| कहानी जो प्रचलित है वो ये है की शहजान्ह ने मुमताज के लिए संगमरमर के पत्थर जो सफेद होता है उस पत्थर का ताज महल बनवाया था इसी तरह शहजान्ह ने अपने लिए यानि अपनी कब्र के लिए संगमूसा का यानि काले पत्थर का ताज महल ठीक सफेद पत्थर के ताज महल के सामने जमना के उसपार बनवाना चाहता था| लेकिन कहते है की वो पूरा नहीं हो पाया|

आगरा का ताजमहल दिखाओ, आगरा का ताजमहल वीडियो, आगरा का लाल किला, उस्ताद अहमद लाहौरी, ताज महल आगरा, ताज महल इतिहास, ताज महल का रहस्य, ताज महल किसने बनवाया था, ताज महल के बारे मे जानकारी, ताज महल क्या है, ताज महल पर निबंध, ताज महल फोटो, ताजमहल एक शिव मंदिर, ताजमहल का इतिहास, ताजमहल का फोटो, ताजमहल का सच, ताजमहल किसने बनवाया, ताजमहल दफ़नाए गए, ताजमहल पर निबंध, तेजो महालय शिव मंदिर,
ताजमहल एक शिव मंदिर

लेकिन archeologist ने जो खोज की तो पता चला की उस तरफ जो दीवारे उठी खड़ी हुई है वो किसी बनने वाले महल की दीवारे नहीं है बल्कि एक बहोत बड़े महल की दीवारे है जो गिर चुका है, खंडर है| तो इसका मतलब ये है की वो दीवारे किसी नए बनने वाले महल की नहीं है बल्कि जो महल टूट गया है उसकी है| ताज महल के चारों तरफ सिपाहियों के खड़े होने के स्थान है,बंदूक और टॉप लगाने के स्थान है, जबकि कब्रों पर इनके लिए कोई जरूरत नहीं होती, वो महल है पुराना उसे सिर्फ कन्वर्ट किया गया है कब्र मे और दूसरी तरफ भी एक महल था वो गिर गया, जिसके खंडर रह गए है बस|

ताजमहल के हिन्दू निर्माण का साक्ष्य देने वाला काले पत्थर पर लिखा एक संस्कृत शिलालेख लखनऊ के वास्तु संग्रहालय में रखा हुआ है। यह सन् 1155 का है। उसमें राजा परमर्दिदेव के मंत्री सलक्षण द्वारा कहा गया है कि ‘स्फटिक जैसा शुभ्र इन्दुमौलीश्‍वर (शंकर) का मंदिर बनाया गया। (वह इतना सुंदर था कि) उसमें निवास करने पर शिवजी को कैलाश लौटने की इच्छा ही नहीं रही। वह मंदिर आश्‍विन शुक्ल पंचमी,यानि ( रविवार) को बनकर तैयार हुआ।

आगरा के ताजमहल का सच पूरी दुनिया के सामने लाने वाले श्री. पी.एन. ओक अपनी पुस्तक “Taj mahal is a Hindu Temple Palace” और “Taj Mahal: The True Story” में 100 से भी अधिक प्रमाण और तर्को का हवाला देकर बताते हैं कि ताजमहल वास्तव में शिव मंदिर है जिसका असली नाम तेजो महालय है,

सबसे पहले जान लेते है की P.N. OAK थे कौन थे, पन ओक शोदकर्ता और इतिहासकार थे जिनका जन्म 1917 मे इंदौर मे हुआ और MA LLB करने के बाद ब्रिटिश इंडिया मे gazetteer ऑफिसर रहे उसके बाद ये दूसरे विश्व युद्ध की लड़ाई सुभाष चंद जी के सनिध्य मे लड़े और फिर इन्होंने कितबे लिखनी शुरू की जिन्होंने दुनिया को हिल कर रख दिया| जैसे

क्रिश्चियनिटी इज़ कृष्ण-नीति

द ताजमहल इज़ अ टेंपल प्लेस

हू सेज़ अकबर वाॅज़ ग्रेट

आगरा रेड फोर्ट इज़ अ हिंदू बिल्डिंग

सम ब्लंडर्स ऑफ़ इंडियन हिस्टोरिकल रिसर्च

वर्ल्ड वैदिक हेरिटेज: अ हिस्ट्री ऑफ़ हिस्ट्रीज़

ताजमहल: द ट्रू स्टोरी

वॉज़ काबा अ हिदू टेंपल?

लर्निंग वैदिक एस्ट्रोलॉजी आदि

तो उन्होंने भारत देश के इतिहास को पुर्नोत्थान और सही दिशा में ले जाने का काम किया है। मुगलो और अग्रेजो के समय मे भारत के इतिहास के साथ जिस प्रकार छेड़छाड़ की गई और आज वर्तमान तक मे की जा रही है, उसका विरोध और सही प्रस्तुतिकरण करने वाले प्रमुख इतिहासकारो में पुरूषोत्तम ओक का नाम लिया जाता है। पुरूषोत्तम जी ने ताजमहल की भूमिका, इतिहास और पृष्ठभूमि सभी का अध्ययन किया और तस्वीरों, चित्रों के द्वारा उसे प्रमाणित करने का प्रयास किया की ताजमहल असल मे हिन्दू शिवमंदिर था|

यह आर्टिकल प्रोफ़ेसर पुरुषोत्तम नाथ ओक के तर्कों पर आधारित है जिसमे ताजमहल को मकबरा न बताकर हिंदू शिव मन्दिर बताया गया है और आज भी ताजमहल के 22 कमरे शाहजहाँ के काल से बंद पड़े हैं| ताज महल के सम्बन्ध में एक कहानी प्रचलित है कि ताजमहल के अन्दर मुमताज की कब्र पर सदैव बूँद-बूँद कर पानी टपकता रहता है, यदि यह सत्य है तो पूरे विश्व मे किसी भी कब्र पर बूँद बूँद कर पानी नही टपकाया जाता, जबकि प्रत्येक हिंदू शिव मन्दिर में ही शिवलिंग पर बूँद-बूँद कर पानी टपकाने की व्यवस्था की जाती है, फ़िर ताजमहल जिसे मक़ब्रा बताया जाता है, उसमें बूँद बूँद कर पानी टपकाने का क्या मतलब? इस बात का तोड़ आज तक नहीं खोजा जा सका है।

आगरा का ताजमहल दिखाओ, आगरा का ताजमहल वीडियो, आगरा का लाल किला, उस्ताद अहमद लाहौरी, ताज महल आगरा, ताज महल इतिहास, ताज महल का रहस्य, ताज महल किसने बनवाया था, ताज महल के बारे मे जानकारी, ताज महल क्या है, ताज महल पर निबंध, ताज महल फोटो, ताजमहल एक शिव मंदिर, ताजमहल का इतिहास, ताजमहल का फोटो, ताजमहल का सच, ताजमहल किसने बनवाया, ताजमहल दफ़नाए गए, ताजमहल पर निबंध, तेजो महालय शिव मंदिर,
ताज महल विश्व युद्ध २ के समय

राजनीतिक भर्त्सना के डर से तत्कालीन इंदिरा गांधी सरकार ने ओक की सभी पुस्तकों पर रोक लगा दी थी और संपादकों को भयंकर परिणाम भुगत लेने की धमकियां दी गईं थीं।
प्रो. ओक के अपने अनुसंधान के दौरान ये खोजा कि इस शिव मन्दिर को शाहजहाँ ने जयपुर के महाराज जयसिंह से अवैध तरीके से छीन लिया था और इस पर अपना कब्ज़ा कर लिया।

शाहजहाँ के दरबारी लेखक “मुल्ला अब्दुल हमीद लाहौरी” ने अपने “बादशाहनामा” में मुग़ल शासक बादशाह का संपूर्ण वृतांत लिखा है, जिसके खंड एक के पृष्ठ 402 और 403 पर इस बात का उल्लेख है कि, शाहजहाँ की बेगम मुमताज-उल-ज़मानी जिसे मृत्यु के बाद, बुरहानपुर मध्य प्रदेश में अस्थाई तौर पर दफना दिया गया था और इसके 6 महीने बाद तारीख़ 15 ज़मदी-उल- अउवल दिन शुक्रवार,को अकबराबाद आगरा लाया गया फ़िर उसे महाराजा जय सिंह से लिए गए, आगरा में स्थित एक असाधारण रूप से सुंदर और शानदार भवन (इमारतें आलीशान) मे पुनः दफनाया गया,लाहौरी के अनुसार राजा जय सिंह अपने पुरखों कि इस आली मंजिल से बेहद प्यार करते थे ,पर बादशाह के दबाव मे वह इसे देने के लिए तैयार हो गए थे।

इस बात कि पुष्टि के लिए यहाँ ये बताना जरूरी है कि जयपुर के पूर्व महाराज के गुप्त संग्रह में वे दोनो आदेश अभी तक रखे हुए हैं जो शाहजहाँ द्वारा ताज भवन को समर्पित करने के लिए राजा जय सिंह को दिए गए थे। अब जब शाहजहाँ की बेगम अर्जुमंद बानो यानि (मुमताज) को बुरहानपुर (म0प्र0) में ही दफना दिया गया था, जो अपने 14वें बच्चे के जन्म के समय मरी थी, तो फिर आगरा में उसकी कब्र कहां से आ गयी? और एक नहीं, दो कब्रें। एक ऊपर है एक नीचे। एक को असली और दूसरी को नकली कहते हैं, जबकि वे दोनों ही नकली हैं। और मुस्लिम समाज में कब्र खोदना कुफ्र बताया गया है,

शाहजहाँ असल मे मुग़लों के चाकर राजा जय सिंह के वीर पूर्वजों ने बनवाया था, पर शाहजहाँ ने दबाव डालकर जय सिंह से इसे ले लिया। फिर कुरान की आयतें, नकली कब्रें बनाकर उसे प्रेम का प्रतीक घोषित कर दिया। और नकली कब्रें जानबूझ कर वहीं बनाई गयीं, जहां शिवलिंग स्थापित था। ताजमहल में नीचे की ओर 22 कमरे हैं, जिन्हें खोला नहीं जाता। कहते हैं कि वहां वे सब देव प्रतिमाएं रखी हैं, जिन्हें मंदिर से हटा दिया गया था। कार्बन डेटिंग के आधार पर इसे 1,400 साल पुराना बताया गया है|

आगरा का ताजमहल दिखाओ, आगरा का ताजमहल वीडियो, आगरा का लाल किला, उस्ताद अहमद लाहौरी, ताज महल आगरा, ताज महल इतिहास, ताज महल का रहस्य, ताज महल किसने बनवाया था, ताज महल के बारे मे जानकारी, ताज महल क्या है, ताज महल पर निबंध, ताज महल फोटो, ताजमहल एक शिव मंदिर, ताजमहल का इतिहास, ताजमहल का फोटो, ताजमहल का सच, ताजमहल किसने बनवाया, ताजमहल दफ़नाए गए, ताजमहल पर निबंध, तेजो महालय शिव मंदिर,
ताज महल फैक्ट्स

P.N. OAK JI ने तेजोमहालय मंदिर कहे जाने के लेकर की एविडन्स दिए जैसे की

  • हिन्दू मंदिर प्रायः नदी या समुद्र तट पर बनाए जाते हैं। ताज भी यमुना नदी के तट पर बना है, जो कि शिव मंदिर के लिए एक उपयुक्त स्थान है।
  • शिव मंदिर में एक मंज़िल के ऊपर एक और मंज़िल में दो शिवलिंग स्थापित करने का हिंदुओं में रिवाज था, जैसा कि उज्जैन के महाकालेश्वर मंदिर और सोमनाथ मंदिर में देखा जा सकता है।
  • ताजमहल में एक कब्र तहखाने में और एक कब्र उसके ऊपर की मंजिल के कक्ष में है तथा दोनों ही कब्रों को मुमताज का बताया जाता है।
  • जिन संगमरमर के पत्थरों पर कुरान की आयतें लिखी हुई हैं उनके रंग में पीलापन है जबकि शेष पत्थर ऊंची गुणवत्ता वाले सफेद रंग के हैं। यह इस बात का प्रमाण है कि कुरान की आयतों वाले पत्थर बाद में लगाए गए हैं। उन अक्षरों को खोदने वाले अमानत ख़ान शिराज़ी ने खुद ही उसी इमारत के एक शिलालेख में लिखा है। कुरान के उन आयतों के अक्षरों को ध्यान से देखने से पता चलता है कि उन्हें एक प्राचीन शिव मंदिर के पत्थरों के टुकड़ों से बनाया गया है।
  • ताज के दक्षिण में एक प्राचीन पशुशाला है। जहा पर तेजोमहालय की पालतू गायों को बांधा जाता था। मुस्लिम कब्र में गोशाला होना एक असंगत बात है।
  • ताजमहल में चारों ओर चार एक समान प्रवेश द्वार हैं, जो कि हिन्दू भवन निर्माण का एक विलक्षण तरीका है जिसे कि चतुर्मुखी भवन कहा जाता है। ताजमहल में ध्वनि को गुंजाने वाला गुम्बद है। हिन्दू मंदिरों के लिए गूँज उत्पन्न करने वाले गुम्बजों का होना अनिवार्य है। बौद्ध काल में इसी तरह के शिव मंदिरों का अधिक निर्माण हुआ था। ताजमहल का गुम्बज कमल की आकृति से अलंकृत है।
  • ताजमहल के गुम्बज में सैकड़ों लोहे के छल्ले लगे हुए हैं जिस पर बहुत ही कम लोगों का ध्यान जा पाता है। इन छल्लों पर मिट्टी के आलोकित दीये रखे जाते थे जिससे कि सारा मंदिर जगमग हो जाता था। ताजमहल की चारों मीनारें बाद में बनाई गईं।

इतिहासकार ओक के अनुसार ताज एक सात मंजिला भवन है। शहज़ादे औरंगज़ेब के शाहजहाँ को लिखे पत्र में भी इस बात का विवरण है। भवन की चार मंज़िलें संगमरमर पत्थरों से बनी हैं जिनमें चबूतरा, चबूतरे के ऊपर विशाल वृत्तीय मुख्य कक्ष और तहखाने का कक्ष शामिल है। मध्य में दो मंज़िलें और हैं जिनमें 12 से 15 विशाल कक्ष हैं।

संगमरमर की इन चार मंजिलों के नीचे लाल पत्थरों से बनी दो और मंज़िलें हैं, जो कि पिछवाड़े में नदी तट तक चली जाती हैं। सातवीं मंज़िल अवश्य ही नदी तट से लगी भूमि के नीचे होनी चाहिए, क्योंकि सभी प्राचीन हिन्दू भवनों में भूमिगत मंज़िल हुआ करती है। नदी तट के भाग में संगमरमर की नींव के ठीक नीचे लाल पत्थरों वाले 22 कमरे हैं जिनके झरोखों को शाहजहाँ ने चुनवा दिया था ।

इन 22 कमरों की दीवारों तथा भीतरी छतों पर अभी भी प्राचीन हिन्दू चित्रकारी अंकित हैं। इन कमरों से लगा हुआ लगभग 33 फुट लंबा गलियारा है। गलियारे के दोनों सिरों में एक-एक दरवाज़े बने हुए हैं। इन दोनों दरवाजों को इस प्रकार से आकर्षक रूप से ईंटों और गारे से चुनवा दिया गया है कि वे दीवार जैसे प्रतीत हों।

आगरा का ताजमहल दिखाओ, आगरा का ताजमहल वीडियो, आगरा का लाल किला, उस्ताद अहमद लाहौरी, ताज महल आगरा, ताज महल इतिहास, ताज महल का रहस्य, ताज महल किसने बनवाया था, ताज महल के बारे मे जानकारी, ताज महल क्या है, ताज महल पर निबंध, ताज महल फोटो, ताजमहल एक शिव मंदिर, ताजमहल का इतिहास, ताजमहल का फोटो, ताजमहल का सच, ताजमहल किसने बनवाया, ताजमहल दफ़नाए गए, ताजमहल पर निबंध, तेजो महालय शिव मंदिर,
ताज महल का कंगुरा

शाहजहाँ द्वारा चुनवाए गए इन दरवाज़ों को कई बार खुलवाया और फिर से चुनवाया गया है। सन् 1934 में दिल्ली के एक निवासी ने चुनवाए हुए दरवाज़े के ऊपर पड़ी एक दरार से झांककर देखा था। उसके भीतर एक बहोत बड़ा कमरा है और वहां के दृश्य को देखकर वह हक्का-बक्का रह गया था| उसने वहां बीचोंबीच भगवान शिव का चित्र देखा जिसका सिर कटा हुआ था और उसके चारों ओर बहुत सारी मूर्तियों का जमावड़ा था। ऐसा भी हो सकता है कि वहां पर संस्कृत के शिलालेख भी हों। ताजमहल के उन कमरों मे हिन्दू चित्र, संस्कृत शिलालेख, धार्मिक लेख, सिक्के तथा अन्य उपयोगी वस्तुए भारी पड़ी है|

फ्रांसीसी यात्री बेर्नियर ने लिखा है कि ताज के निचले रहस्यमय कक्षों में गैर मुस्लिमों को जाने की इजाज़त नहीं थी, क्योंकि वहां चौंधिया देने वाली वस्तुएँ थीं। वे तो लूटी हुई वस्तुएँ थीं और शाहजहाँ उन्हें अपने खजाने में ले जाना चाहता था इसीलिए वह नहीं चाहता था कि कोई उन्हें देखे। नदी के पिछवाड़े में हिन्दू बस्तियां, बहुत से हिन्दू प्राचीन घाट और प्राचीन हिन्दू शव दाह गृह हैं। यदि शाहजहाँ ने ताज को बनवाया होता तो इन सबको नष्ट कर दिया गया होता।

जयपुर के पूर्व महाराजा ने अपनी दैनंदिनी में 18 दिसंबर, 1633 को जारी किए गए शाहजहाँ के ताज भवन समूह को मांगने के बाबत दो फरमानों (नए क्रमांक आर. 176 और 177) के विषय में लिख रखा है। ताजमहल के बाहर पुरातत्व विभाग में रखे हुए शिलालेख में ये लिखा है की शाहजहाँ ने अपनी बेगम मुमताज महल को दफ़नाने के लिए एक विशाल इमारत बनवाई जिसे बनाने में सन् 1631 से लेकर 1653 तक 22 वर्ष लगे।

यह शिलालेख ऐतिहासिक घपले का नमूना है। प्रोफ़ेसर ओक लिखते हैं कि औरंगज़ेब द्वारा अपने पिता को लिखी गई चिट्ठी को कम से कम तीन महत्वपूर्ण ऐतिहासिक वृत्तांतों में दर्ज किया गया है जिनके नाम ‘आदाब-ए-आलमगिरी’, ‘यादगारनामा’ और ‘मुरुक्का-ए-अकबराबादी’ (1931 में सैद अहमद, आगरा द्वारा संपादित, पृष्ठ 43, टीका 2) हैं। उस चिट्ठी में सन् 1662 में औरंगज़ेब ने खुद लिखा है कि मुमताज के सात मंजिला लोकप्रिय दफन स्थान के प्रांगण में स्थित कई इमारतें इतनी पुरानी हो चुकी हैं कि उनमें पानी चू रहा है और गुम्बद के उत्तरी सिरे में दरार पैदा हो गई है। इसी कारण से औरंगज़ेब ने खुद के खर्च से इमारतों की तुरंत मरम्मत के लिए फरमान जारी किया और बादशाह से सिफारिश की कि बाद में और भी विस्तार पूर्वक मरम्मत कार्य करवाया जाए। यह इस बात का साक्ष्य है कि शाहजहाँ के समय में ही ताज प्रांगण इतना पुराना हो चुका था कि तुरंत मरम्मत करवाने की जरूरत थी।

ताजमहल शब्द के अंत में आये ‘महल’ मुस्लिम शब्द है ही नहीं, अफग़ानिस्तान से लेकर अल्जीरिया तक किसी भी मुस्लिम देश में एक भी ऐसी इमारत नहीं है जिसे कि महल के नाम से पुकारा जाता हो। साधारणतः समझा जाता है कि ताजमहल नाम मुमताज महल, जो कि वहां पर दफनाई गई थी, के कारण पड़ा है। यह बात कम से कम दो कारणों से तर्कसम्मत नहीं है – पहला यह कि शाहजहाँ के बेगम का नाम मुमताज महल था ही नहीं, उसका नाम मुमताज़-उल-ज़मानी था और दूसरा यह कि किसी इमारत का नाम रखने के लिय मुमताज़ नामक औरत के नाम से “मुम” को हटा देने का कुछ मतलब नहीं निकलता।

चूँकि महिला का नाम मुमताज़ था जो कि ज़ अक्षर मे समाप्त होता है न कि ज में (अंग्रेजी का Z न कि J), भवन का नाम में भी ताज के स्थान पर ताज़ होना चाहिये था (अर्थात् यदि अंग्रेजी में लिखें तो Taj के स्थान पर Taz होना था जैसा कि उर्दू में ज के लिए J नही Z का उपयोग किया जाता है)।

शाहजहाँ के समय यूरोपीय देशों से आने वाले कई लोगों ने भवन का उल्लेख ‘ताज-ए-महल’ के नाम से किया है जो कि उसके शिव मंदिर वाले परंपरागत संस्कृत नाम तेजोमहालय से मेल खाता है। इसके विरुद्ध शाहजहाँ और औरंगज़ेब ने बड़ी सावधानी के साथ संस्कृत से मेल खाते इस शब्द का कहीं पर भी प्रयोग न करते हुये उसके स्थान पर पवित्र मकब़रा शब्द का ही प्रयोग किया है।

मक़बरे को कब्रगाह ही समझना चाहिये, न कि महल, इस प्रकार से समझने से यह सत्य अपने आप समझ में आ जायेगा कि हुमायुँ, अकबर, मुमताज़, एतमातुद्दौला और सफ़दरजंग जैसे सारे शाही और दरबारी लोगों को हिंदू महलों या मंदिरों में दफ़नाया गया है।

यदि ताज का अर्थ कब्रिस्तान है तो उसके साथ महल शब्द जोड़ने का कोई तुक ही नहीं है। ताजमहल शब्द का प्रयोग मुग़ल दरबारों में कभी किया ही नहीं जाता था, ताजमहल के विषय में किसी प्रकार की मुग़ल व्याख्या ढूंढना ही असंगत है। ‘ताज’ और ‘महल’ दोनों ही संस्कृत मूल के शब्द हैं।

ताजमहल शिव मंदिर को इंगित करने वाले शब्द तेजोमहालय शब्द का अपभ्रंश है। तेजोमहालय मंदिर में अग्रेश्वर महादेव प्रतिष्ठित थे। संगमरमर की सीढ़ियाँ चढ़ने के पहले जूते उतारने की परंपरा शाहजहाँ के समय से भी पहले की थी| यदि ताज का निर्माण मक़बरे के रूप में हुआ होता तो जूते उतारने की आवश्यकता ही नहीं होती क्योंकि किसी मक़बरे में जाने के लिये जूता उतारना अनिवार्य नहीं होता।

देखने वालों ने अवलोकन किया होगा कि तहखाने के अंदर कब्र वाले कमरे में केवल सफेद संगमरमर के पत्थर लगे हैं जबकि अटारी व कब्रों वाले कमरे में पुष्प लता आदि से चित्रित पच्चीकारी की गई है। इससे साफ जाहिर होता है कि मुमताज़ के मक़बरे वाला कमरा ही शिव मंदिर का गर्भ गृह है।

संगमरमर की जाली में 108 कलश चित्रित उसके ऊपर 108 कलश आरूढ़ हैं, हिंदू मंदिर परंपरा में 108 की संख्या को पवित्र माना जाता है।

वास्तुकला की विश्वकर्मा वास्तुशास्त्र नामक प्रसिद्ध ग्रंथ में शिवलिंगों में ‘तेज-लिंग’ का वर्णन आता है। ताजमहल में ‘तेज-लिंग’ प्रतिष्ठित था इसलिये उसका नाम तेजोमहालय पड़ा था।

किसी भी ऐतिहासिक वृतान्त में ताजमहल, मुमताज़ तथा दफ़न का कहीं भी जिक्र नहीं है। न ही पत्थरों के परिमाण और दाम का कहीं जिक्र है।

विदेशी और यूरोपीय आगंतुकों के अभिलेख

विदेशी आगंतुक जैसे टॉवेर्नियर, पीटर मुंडी, डी लॉएट, इन सभी ने समय समय आगरा मे एक सफेद रंग के शिव मंदिर के बारे मे लिखा है, जैसे जॉन अल्बर्ट मान्डेल्सो ने (अपनी पुस्तक `Voyages and Travels to West-Indies में सन् 1638 में (मुमताज़ के मौत के केवल 7 साल बाद) आगरा के जन-जीवन का विस्तृत वर्णन किया है परंतु उसमें ताजमहल के निर्माण के बारे में कुछ भी नहीं लिखा है जबकि कहा ये जाता है कि सन् 1631 से 1653 तक ताज महल का निर्माण होता रहा था।

शाहजहाँ कितना झुट है उसका आइक प्रमाण Archaeological Survey of India Reports (1874 में प्रकाशित) के पृष्ठ 216-217, खंड 4 में मिलता है जिसमें लिखा है, “Great square black ballistic pillar which, with the base and capital of another pillar….now in the grounds of Agra,…it is well known, once stood in the garden of Taj mahal”.

थॉमस ट्विनिंग नामक एक अंग्रेज ने भी अपनी पुस्तक “Travels in India A Hundred Years ago” के पृष्ठ 191 में लिखा है,की “सन् 1794 के नवम्बर माह में मैं ताज-ए-महल और उससे लगे हुये अन्य भवनों को घेरने वाली ऊँची दीवार के पास पहुँचा। वहाँ से मैंने पालकी ली और….. बीचोबीच बनी हुई एक सुंदर दरवाजे जिसे कि गजद्वार (‘COURT OF ELEPHANTS’) कहा जाता था की ओर जाने वाली छोटे कदमों वाली सीढ़ियों पर चढ़ा।”

दरअसल शाहजहाँ ने तेजोमहालय के संस्कृत शिलालेखों व देवी-देवताओं की प्रतिमाओं और दो हाथियों की विशाल प्रतिमाओं के साथ बुरी तरह तोड़ फोड़ करके वहाँ कुरान की आयतों को लिखवा कर ताज को विकृत कर दिया, हाथियों की इन दो प्रतिमाओं के सूंड आपस में स्वागत द्वार के रूप में जुड़े हुये थे, (जहाँ पर दर्शक आजकल प्रवेश की टिकट प्राप्त करते हैं) वहीं ये प्रतिमाएँ स्थित थीं।

वैज्ञानिक पद्धति कार्बन 14 द्वारा जाँच

ताज के नदी के तरफ के दरवाजे लकड़ी के एक टुकड़े को एक अमेरिकन प्रयोगशाला में कि गई जाँच से पता चला है कि लकड़ी का वो टुकड़ा शाहजहाँ के काल से 300 वर्ष पहले का है, क्योंकि ताज के दरवाजों को 11वी सदी से ही मुस्लिम आक्रामकों के द्वारा कई बार तोड़कर खोला गया है और फिर से बंद करने के लिये दूसरे दरवाजे भी लगाये गये हैं, ताज और भी पुराना हो सकता है। असल में ताज को सन् 1115 में अर्थात् शाहजहाँ के समय से लगभग 500 वर्ष पूर्व बनवाया गया था।

बनावट तथा वास्तुशास्त्रीय तथ्य द्वारा जॉच

ई.बी. हॉवेल, श्रीमती केनोयर और सर डब्लू.डब्लू. हंटर जैसे पश्चिम के जाने माने वास्तुशास्त्री, ने ताजमहल के अभिलेखों का अध्ययन करके यह राय दी है कि ताजमहल हिंदू मंदिरों जैसा भवन है। हॉवेल ने तर्क दिया है कि जावा देश के चांदी सेवा मंदिर का ground plan ताज महल के समान है।

चार छोटे छोटे सजावटी गुम्बदों के मध्य एक बड़ा मुख्य गुम्बद होना हिंदू मंदिरों की सार्वभौमिक विशेषता है। चार कोणों में चार स्तम्भ बनाना हिंदू विशेषता रही है। इन चार स्तम्भों से दिन में चौकसी का कार्य होता था और रात्रि में प्रकाश स्तम्भ का कार्य लिया जाता था। ये स्तम्भ भवन के पवित्र अधिसीमाओं का निर्धारण का भी करती थीं। हिंदू विवाह वेदी और भगवान सत्य नारायण के पूजा वेदी में भी चारों कोणों में इसी प्रकार के चार खम्भे बनाये जाते हैं।

ताजमहल की अष्टकोणीय संरचना विशेष हिंदू अभिप्राय की अभिव्यक्ति है क्योंकि केवल हिंदुओं में ही आठ दिशाओं के विशेष नाम होते हैं और उनके लिये खगोलीय रक्षकों का निर्धारण किया जाता है। स्तम्भों के नींव तथा बुर्ज क्रमशः धरती और आकाश के प्रतीक होते हैं। हिंदू दुर्ग, नगर, भवन या तो अष्टकोणीय बनाये जाते हैं या फिर उनमें किसी न किसी प्रकार के अष्टकोणीय लक्षण बनाये जाते हैं तथा उनमें धरती और आकाश के प्रतीक स्तम्भ बनाये जाते है|

आगरा का ताजमहल दिखाओ, आगरा का ताजमहल वीडियो, आगरा का लाल किला, उस्ताद अहमद लाहौरी, ताज महल आगरा, ताज महल इतिहास, ताज महल का रहस्य, ताज महल किसने बनवाया था, ताज महल के बारे मे जानकारी, ताज महल क्या है, ताज महल पर निबंध, ताज महल फोटो, ताजमहल एक शिव मंदिर, ताजमहल का इतिहास, ताजमहल का फोटो, ताजमहल का सच, ताजमहल किसने बनवाया, ताजमहल दफ़नाए गए, ताजमहल पर निबंध, तेजो महालय शिव मंदिर,
ताज महल की पुराणी तस्वीर

ताजमहल के गुम्बद के बुर्ज पर एक त्रिशूल लगा हुआ है। इस त्रिशूल का प्रतिरूप ताजमहल के पूर्व दिशा में लाल पत्थरों से बने प्रांगण में नक्काशा गया है। त्रिशूल के मध्य वाली डंडी एक कलश को प्रदर्शित करता है जिस पर आम की दो पत्तियाँ और एक नारियल रखा हुआ है। इसी प्रकार के बुर्ज हिमालय में स्थित हिंदू तथा बौद्ध मंदिरों में भी देखे गये हैं। ताजमहल के चारों दशाओं में बहुमूल्य व उत्कृष्ट संगमरमर से बने दरवाज़ों के शीर्ष पर भी लाल कमल की पृष्ठभूमि वाले त्रिशूल बने हुये हैं।

सदियों से लोग बड़े प्यार के साथ परंतु गलती से इन त्रिशूलों को इस्लाम का प्रतीक चांद-तारा मानते आ रहे हैं और यह भी समझा जाता है कि अंग्रेज शासकों ने इसे विद्युत चालित करके इसमें चमक पैदा कर दिया था। जबकि इस लोकप्रिय मानना के विरुद्ध यह हिंदू धातुविद्या का चमत्कार है क्योंकि यह जंगरहित मिश्रधातु का बना है और प्रकाश विक्षेपक भी है। त्रिशूल के प्रतिरूप का पूर्व दिशा में होना भी अर्थसूचक है क्योंकि हिंदुओं में पूर्व दिशा को, उसी दिशा से सूर्योदय होने के कारण, विशेष महत्व दिया गया है. गुम्बद के बुर्ज अर्थात् (त्रिशूल) पर ताजमहल के अधिग्रहण के बाद ‘अल्लाह’ शब्द लिख दिया गया है जबकि लाल पत्थर वाले पूर्वी प्रांगण में बने प्रतिरूप में ‘अल्लाह’ शब्द कहीं भी नहीं है।

अन्‍य असंगतियाँ

शुभ्र ताज के पूर्व तथा पश्चिम में बने दोनों भवनों के ढांचे, माप और आकृति में एक समान हैं और आज तक इस्लाम की परंपरानुसार पूर्वी भवन को सामुदायिक कक्ष (community hall) बताया जाता है जबकि पश्चिमी भवन पर मस्जिद होने का दावा किया जाता है। दो अलग-अलग उद्देश्य वाले भवन एक समान कैसे हो सकते हैं? इससे सिद्ध होता है कि ताज पर शाहजहाँ के अधिपत्य हो जाने के बाद पश्चिमी भवन को मस्ज़िद के रूप में प्रयोग किया जाने लगा। आश्चर्य की बात है कि बिना मीनार के भवन को मस्ज़िद बताया जाने लगा। वास्तव में ये दोनों भवन तेजोमहालय के स्वागत भवन थे।

उसी किनारे में कुछ गज की दूरी पर संगीत कक्ष है जो कि इस्लाम के लिये एक बहुत बड़ी असंगति है (क्योंकि शोरगुल वाला स्थान होने के कारण नक्कारख़ाने के पास मस्ज़िद नहीं बनाया जाता)। इससे इंगित होता है कि पश्चिमी भवन मूलतः मस्जिद नहीं था। इसके विरुद्ध हिंदू मंदिरों में सुबह शाम आरती में विजयघंट, घंटियों, नगाड़ों आदि का मधुर नाद अनिवार्य होने के कारण इन वस्तुओं के रखने का स्थान होना आवश्यक है।

ताजमहल में मुमताज़ महल के नकली कब्र वाले कमरे की दीवारों पर बनी फूल-पत्ती, शंख, घोंघा तथा हिंदू अक्षर ॐ चित्रित है। कमरे में बनी संगमरमर की अष्टकोणीय जाली के ऊपरी कठघरे में गुलाबी रंग के कमल फूलों की खुदाई की गई है। कमल, शंख और ॐ के हिंदू देवी-देवताओं के साथ संयुक्त होने के कारण उनको हिंदू मंदिरों में मूलभाव के रूप में प्रयुक्त किया जाता है।

जहाँ पर आज मुमताज़ का कब्र बनी हुई है वहाँ पहले तेज लिंग हुआ करता था जो कि भगवान शिव का पवित्र प्रतीक है। इसके चारों ओर परिक्रमा करने के लिये पाँच गलियारे हैं। संगमरमर के अष्टकोणीय जाली के चारों ओर घूम कर या कमरे से लगे विभिन्न विशाल कक्षों में घूम कर और बाहरी चबूतरे में भी घूम कर परिक्रमा कि जा सकति थी। हिंदू रिवाजों के अनुसार परिक्रमा गलियारों में देवता के दर्शन हेतु झरोखे बनाये जाते हैं।

ताज के इस पवित्र स्थान में चांदी के दरवाजे और सोने के कठघरे थे जैसा कि हिंदू मंदिरों में होता है। संगमरमर के अष्टकोणीय जाली में मोती और रत्नों की लड़ियाँ भी लटकती थीं।

ताज भवन में ऐसी व्यवस्था की गई थी कि हिंदू परंपरा के अनुसार शरद पूर्णिमा की रात्रि में अपने आप शिव लिंग पर जल की बूंद टपके। इस पानी के टपकने को इस्लाम धारणा का रूप दे कर शाहजहाँ के प्रेमाश्रु बताया जाने लगा।

ताजमहल में खजाने वाला कुआँ

तथाकथित मस्जिद और नक्कारखाने के बीच एक अष्टकोणीय कुआँ है जिसमें पानी के तल तक सीढ़ियाँ बनी हुई हैं। यह हिंदू मंदिरों का परंपरागत खजाने वाला कुआँ है। खजाने के संदूक नीचे की मंजिलों में रखे जाते थे| एक मक़बरे में इतना परिश्रम करके बहुमंजिला कुएँ बनाना बेमानी है। इतना विशाल दीर्घाकार कुआँ किसी कब्र के लिये अनावश्यक भी है।

मुमताज के दफ़न की तारीख अविदित होना

मुमताज़ के दफ़न की तारीख इतिहास में कभी भी दर्ज नहीं की गई। यहाँ तक कि मुमताज़ की मृत्यु किस वर्ष हुई यह भी अज्ञात है। विभिन्न लोगों ने सन् 1629,1630, 1631 या 1632 में मुमताज़ की मौत होने का अनुमान लगाया है।

5000 औरतों वाली हरम में किस औरत की मौत कब हुई इसका हिसाब रखना एक कठिन कार्य है। स्पष्टतः मुमताज़ की मौत की तारीख़ महत्वहीन थी इसलिये उस पर ध्यान नहीं दिया गया। फिर उसके दफ़न के लिये ताज किसने बनवाया?

आगरा का ताजमहल दिखाओ, आगरा का ताजमहल वीडियो, आगरा का लाल किला, उस्ताद अहमद लाहौरी, ताज महल आगरा, ताज महल इतिहास, ताज महल का रहस्य, ताज महल किसने बनवाया था, ताज महल के बारे मे जानकारी, ताज महल क्या है, ताज महल पर निबंध, ताज महल फोटो, ताजमहल एक शिव मंदिर, ताजमहल का इतिहास, ताजमहल का फोटो, ताजमहल का सच, ताजमहल किसने बनवाया, ताजमहल दफ़नाए गए, ताजमहल पर निबंध, तेजो महालय शिव मंदिर,

आधारहीन प्रेमकथाएँ

शाहजहाँ और मुमताज़ के प्रेम की कहानियाँ मूर्खतापूर्ण हैं। न तो इन कहानियों का कोई ऐतिहासिक आधार है न ही उनके कल्पित प्रेम प्रसंग पर कोई पुस्तक ही लिखी गई है। ताज के शाहजहाँ के द्वारा अधिग्रहण के बाद उसके अधिपत्य दर्शाने के लिये ही इन कहानियों को गढ़ लिया गया।

भवन निर्माण शास्त्री

ताज भवन के भवननिर्माणशास्त्री (designer, architect) के विषय में भी अनेक नाम लिये जाते हैं जैसे कि ईसा इफेंडी जो कि एक तुर्क था, अहमद़ मेंहदी या एक फ्रांसीसी, आस्टीन डी बोरडीक्स या गेरोनिमो वेरेनियो जो कि एक इटालियन था, या शाहजहाँ स्वयं।

नदारद दस्तावेज़ ऐसा समझा जाता है कि शाहजहाँ के काल में ताजमहल को बनाने के लिये 20 हजार लोगों ने 22 साल तक काम किया। यदि यह सच है तो ताजमहल का नक्शा (design drawings), मज़दूरों की हाजिरी रजिस्टर (labour muster rolls), दैनिक खर्च (daily expenditure sheets), भवन निर्माण सामग्रियों के खरीदी के बिल और रसीद (bills and receipts of material ordered) आदि दस्तावेज़ शाही अभिलेखागार में उपलब्ध होते। वहाँ पर इस प्रकार के कागज का एक टुकड़ा भी नहीं है।

शाहजहाँ के समय में ताज के वाटिकाओं के विषय में किये गये वर्णनों में केतकी, जै, जूही, चम्पा, मौलश्री, हारश्रिंगार और बेल का जिक्र आता है। ये वे ही पौधे हैं जिनके फूलों या पत्तियों का उपयोग हिंदू देवी-देवताओं की पूजा-अर्चना में होता है। भगवान शिव की पूजा में बेल पत्तियों का विशेष प्रयोग होता है। किसी कब्रगाह में केवल छायादार वृक्ष लगाये जाते हैं । ताज के वाटिकाओं में बेल तथा अन्य फूलों के पौधों की उपस्थिति सिद्ध करती है कि शाहजहाँ के हथियाने के पहले ताज एक शिव मंदिर हुआ करता था।

मोहम्मद पैगम्बर ने निर्देश दिये हैं कि कब्रगाह में केवल एक कब्र होना चाहिये और उसे कम से कम एक पत्थर से चिन्हित करना चाहिये। ताजमहल में एक कब्र तहखाने में और एक कब्र उसके ऊपर के मंज़िल के कक्ष में है तथा दोनों ही कब्रों को मुमताज़ का बताया जाता है, यह मोहम्मद पैगंबर के निर्देश की अवहेलना है। वास्तव में शाहजहाँ को इन दोनों स्थानों के शिवलिंगों को दबाने के लिये दो कब्र बनवाने पड़े थे।

हिंदू गुम्बज के सम्‍बन्‍ध मे तर्क

ताजमहल में ध्वनि को गुंजाने वाला गुम्बद है। ऐसा गुम्बज किसी कब्र के लिये होना एक विसंगति है क्योंकि कब्रगाह एक शांतिपूर्ण स्थान होता है। इसके विरुद्ध हिंदू मंदिरों के लिये गूंज उत्पन्न करने वाले गुम्बजों का होना अनिवार्य है क्योंकि वे देवी-देवता आरती के समय बजने वाले घंटियो, नगाड़ों आदि के ध्वनि के उल्लास और मधुरता को कई गुना अधिक कर देते हैं।

ताजमहल का गुम्बज कमल की आकृति से अलंकृत है। इस्लाम के गुम्बज अनालंकृत होते हैं, दिल्ली के चाणक्यपुरी में स्थित पाकिस्तानी दूतावास और पाकिस्तान की राजधानी इस्लामाबाद के गुम्बज उनके उदाहरण हैं। ताजमहल दक्षिणमुखी भवन है। यदि ताज का संबंध इस्लाम से होता तो उसका मुख पश्चिम की ओर होता।

सन् 1959 से 1962 के अंतराल में श्री एस.आर. राव, जब वे आगरा पुरातत्व विभाग के सुपरिन्टेन्डेंट हुआ करते थे, उनका ध्यान ताजमहल के मध्यवर्तीय अष्टकोणीय कक्ष के दीवार में एक चौड़ी दरार पर गया। उस दरार का पूरी तरह से अध्ययन करने के लिये जब दीवार की एक परत उखाड़ी गई तो संगमरमर की दो या तीन प्रतिमाएँ वहाँ से निकल कर गिर पड़ीं। इस बात को खामोशी के साथ छुपा दिया गया और प्रतिमाओं को फिर से वहीं दफ़न कर दिया गया जहाँ शाहजहाँ के आदेश से पहले दफ़न की गई थीं। इस बात की पुष्टि अनेक अन्य स्रोतों से हो चुकी है।

शाहजहाँ के पूर्व के ताज के संदर्भ

स्पष्टतः के केन्द्रीय भवन का इतिहास अत्यंत पेचीदा प्रतीत होता है। शायद महमूद गज़नी और उसके बाद के मुस्लिम प्रत्येक आक्रमणकारी ने लूट कर अपवित्र किया है परंतु हिंदुओं का इस पर पुनर्विजय के बाद पुनः भगवान शिव की प्रतिष्ठा करके इसकी पवित्रता को फिर से बरकरार कर दिया जाता था। शाहजहाँ अंतिम मुसलमान था जिसने तेजोमहालय उर्फ ताजमहल के पवित्रता को भ्रष्ट किया।

विंसेंट स्मिथ अपनी पुस्तक ‘Akbar the Great Moghul’ में लिखते हैं, “बाबर ने सन् 1630 आगरा के वाटिका वाले महल में अपने उपद्रवी जीवन से मुक्ति पाई”। वाटिका वाला वो महल यही ताजमहल था। बाबर की पुत्री गुलबदन ‘हुमायूँनामा’ नामक अपने ऐतिहासिक वृतांत में ताज का संदर्भ ‘रहस्य महल’ (Mystic House) के नाम से देती है।

बाबर स्वयं अपने संस्मरण में इब्राहिम लोधी के कब्ज़े में एक मध्यवर्ती अष्टकोणीय चारों कोणों में चार खम्भों वाली इमारत का जिक्र करता है जो कि ताज ही था। ये सारे संदर्भ ताज के शाहजहाँ से कम से कम सौ साल पहले का होने का संकेत देते हैं।

ताजमहल की सीमाएँ चारों ओर कई सौ गज की दूरी में फैली हुई है। नदी के पार ताज से जुड़ी अन्य भवनों, स्नान के घाटों और नौका घाटों के अवशेष हैं। विक्टोरिया गार्डन के बाहरी हिस्से में एक लंबी, सर्पीली, लताच्छादित प्राचीन दीवार है जो कि एक लाल पत्थरों से बनी अष्टकोणीय स्तंभ तक जाती है। इतने वस्तृत भूभाग को कब्रिस्तान का रूप दे दिया गया।

शाहजहाँ ने मुमताज़ से निकाह के पहले और बाद में भी कई और औरतों से निक़ाह किया था, अतः मुमताज़ को कोई ह़क नहीँ था कि उसके लिये आश्चर्यजनक कब्र बनवाया जावे। मुमताज़ का जन्म एक साधारण परिवार में हुआ था और उसमें ऐसा कोई विशेष योग्यता भी नहीं थी कि उसके लिये ताम-झाम वाला कब्र बनवाया जावे।

आगरा का ताजमहल दिखाओ, आगरा का ताजमहल वीडियो, आगरा का लाल किला, उस्ताद अहमद लाहौरी, ताज महल आगरा, ताज महल इतिहास, ताज महल का रहस्य, ताज महल किसने बनवाया था, ताज महल के बारे मे जानकारी, ताज महल क्या है, ताज महल पर निबंध, ताज महल फोटो, ताजमहल एक शिव मंदिर, ताजमहल का इतिहास, ताजमहल का फोटो, ताजमहल का सच, ताजमहल किसने बनवाया, ताजमहल दफ़नाए गए, ताजमहल पर निबंध, तेजो महालय शिव मंदिर,
ताज महल

शाहजहाँ तो केवल एक मौका ढूंढ रहा था कि कैसे अपने क्रूर सेना के साथ मंदिर पर हमला करके वहाँ की सारी दौलत हथिया ले, मुमताज़ को दफ़नाना तो एक बहाना मात्र था। इस बात की पुष्टि बादशाहनामा में की गई इस प्रविष्टि से होती है कि मुमताज़ की लाश को बुरहानपुर के कब्र से निकाल कर आगरा लाया गया और ‘अगले साल’ दफ़नाया गया। बादशाहनामा जैसे आधिकारिक दस्तावेज़ में सही तारीख के स्थान पर ‘अगले साल’ लिखने से ही जाहिर होता है कि शाहजहाँ दफ़न से संबंधित विवरण को छुपाना चाहता था।

विचार करने योग्य बात है कि जिस शाहजहाँ ने मुमताज़ के जीवनकाल में उसके लिये एक भी भवन नहीं बनवाया, मर जाने के बाद एक लाश के लिये आश्चर्यमय कब्र क्यों बनवाएगा|

एक विचारणीय बात यह भी है कि शाहजहाँ के बादशाह बनने के तो या तीन साल बाद ही मुमताज़ की मौत हो गई। तो क्या शाहजहाँ ने इन दो तीन साल के छोटे समय में ही इतना अधिक धन संचय कर लिया कि एक कब्र बनवाने में उसे उड़ा सके?

जहाँ इतिहास में शाहजहाँ के मुमताज़ के प्रति विशेष आसक्ति का कोई विवरण नहीं मिलता वहीं शाहजहाँ के अनेक औरतों के साथ, जिनमें दासी, औरत के आकार के पुतले, यहाँ तक कि उसकी स्वयं की बेटी जहांआरा भी शामिल है,उनके साथ यौन संबंधों का लेख जोखा मिलता है। क्या शाहजहाँ मुमताज़ की लाश पर अपनी गाढ़ी कमाई लुटाता?

सन् 1973 के आरंभ में जब ताज के सामने वाली वाटिका की खुदाई हुई तो वर्तमान फौवारों के लगभग छः फुट नीचे और भी फौवारे पाये गये। इससे दो बातें सिद्ध होती हैं। पहली तो यह कि जमीन के नीचे वाले फौवारे शाहजहाँ के काल से पहले ही मौजूद थे। दूसरी यह कि पहले से मौजूद फौवारे चूँकि ताज से जाकर मिले थे अतः ताज भी शाहजहाँ के काल से पहले ही से मौजूद था।

ताजमहल के ऊपरी मंज़िल के गौरवमय कक्षों से कई जगह से संगमरमर के पत्थर उखाड़ लिये गये थे जिनका उपयोग मुमताज़ के नकली कब्रों को बनाने के लिये किया गया। इसी कारण से ताज के भूतल के फर्श और दीवारों में लगे मूल्यवान संगमरमर के पत्थरों की तुलना में ऊपरी तल के कक्ष भद्दे, कुरूप और लूट का शिकार बने नजर आते हैं। चूँकि ताज के ऊपरी तलों के कक्षों में दर्शकों का प्रवेश वर्जित है, शाहजहाँ के द्वारा की गई ये बरबादी एक सुरक्षित रहस्य बन कर रह गई है। ऐसा कोई कारण नहीं है कि मुगलों के शासन काल की समाप्ति के 200 वर्षों से भी अधिक समय व्यतीत हो जाने के बाद भी शाहजहाँ के द्वारा ताज के ऊपरी कक्षों से संगमरमर की इस लूट को आज भी छुपाये रखा जावे।

आगरा का ताजमहल दिखाओ, आगरा का ताजमहल वीडियो, आगरा का लाल किला, उस्ताद अहमद लाहौरी, ताज महल आगरा, ताज महल इतिहास, ताज महल का रहस्य, ताज महल किसने बनवाया था, ताज महल के बारे मे जानकारी, ताज महल क्या है, ताज महल पर निबंध, ताज महल फोटो, ताजमहल एक शिव मंदिर, ताजमहल का इतिहास, ताजमहल का फोटो, ताजमहल का सच, ताजमहल किसने बनवाया, ताजमहल दफ़नाए गए, ताजमहल पर निबंध, तेजो महालय शिव मंदिर,
ताज महल

कुछ लोग विश्वास दिलाने की कोशिश करते हैं कि शाहजहाँ ने पूरे संसार के सर्वश्रेष्ठ भवन निर्माण शास्त्रियों से संपर्क करने के बाद उनमें से एक को चुना था। तो कुछ लोगों का यह विश्वास है कि उसने अपने ही एक भवननिर्माणशास्त्री को चुना था। यदि यह बातें सच होती तो शाहजहाँ के शाही दस्तावेज़ों में इमारत के नक्शों का पुलिंदा मिला होता। परंतु वहाँ तो नक्शे का एक टुकड़ा भी नहीं है। नक्शों का न मिलना भी इस बात का पक्का सबूत है कि ताज को शाहजहाँ ने नहीं बनवाया।

  • ताजमहल बड़े बड़े खंडहरों से घिरा हुआ है जो कि इस बात की ओर इशारा करती है कि वहाँ पर अनेक बार युद्ध हुये थे।
  • ताज के पश्चिमी छोर में लाल पत्थरों के अनेक उपभवन हैं जो कि एक कब्र के लिया अनावश्यक है।
  • संपूर्ण ताज में 400 से 500 कमरे हैं। कब्र जैसे स्थान में इतने सारे रहाइशी कमरों का होना समझ के बाहर की बात है।

ताज के पड़ोस के ताजगंज नामक नगरीय क्षेत्र का स्थूल सुरक्षा दीवार ताजमहल से लगा हुआ है। ये इस बात का स्पष्ट निशानी है कि तेजोमहालय नगरीय क्षेत्र का ही एक हिस्सा था। ताजगंज से एक सड़क सीधे ताजमहल तक आता है। ताजगंज द्वार ताजमहल के द्वार तथा उसके लाल पत्थरों से बनी अष्टकोणीय वाटिका के ठीक सीध में है|

आगरे के लाल किले के एक बरामदे में एक छोटा सा शीशा लगा हुआ है जिससे पूरा ताजमहल प्रतिबिंबित होता है। ऐसा कहा जाता है कि शाहजहाँ ने अपने जीवन के अंतिम आठ साल एक कैदी के रूप में इसी शीशे से ताजमहल को देखते हुये और मुमताज़ के नाम से आहें भरते हुये बिताया था।

ये सब झूठ है। सबसे पहले तो यह कि वृद्ध शाहजहाँ को उसके बेटे औरंगज़ेब ने लाल किले के तहखाने के भीतर कैद किया था न ऊपर के मंज़िल के बरामदे में। दूसरा यह कि उस छोटे से शीशे को सन् 1930 में इंशा अल्लाह ख़ान नामक पुरातत्व विभाग के एक चपरासी ने लगाया था केवल दर्शकों को यह दिखाने के लिये कि पुराने समय में लोग कैसे पूरे तेजोमहालय को एक छोटे से शीशे के टुकड़े में देख लिया करते थे। तीसरे, वृद्ध शाहज़हाँ, जिसके जोड़ों में दर्द और आँखों में मोतियाबिंद था घंटो गर्दन उठाये हुये कमजोर नजरों से उस शीशे में झाँकते रहने के काबिल ही नहीं था जब लाल किले से ताजमहल सीधे ही पूरा का पूरा दिखाई देता है तो छोटे से शीशे से केवल उसकी परछाईं को देखने की आवश्यकता भी नहीं है।

ताजमहल के गुम्बज में सैकड़ों लोहे के छल्ले लगे हुये हैं जिस पर बहुत ही कम लोगों का ध्यान जा पाता है। इन छल्लों पर मिट्टी के आलोकित दिये रखे जाते थे जिससे कि संपूर्ण मंदिर आलोकमय हो जाता था।

विद्यालयों और महाविद्यालयों में इतिहास की कक्षा में बताया जाता है कि शाहजहाँ का काल अमन और शांति का काल था तथा शाहजहाँ ने अनेकों भवनों का निर्माण किया और अनेक सत्कार्य किये जो कि पूर्णतः मनगढ़त और कपोल कल्पित हैं। जैसा कि इस ताजमहल प्रकरण में बताया जा चुका है, शाहजहाँ ने कभी भी कोई भवन नहीं बनाया उल्टे बने बनाये भवनों का नाश ही किया और अपनी सेना की 48 टुकड़ियों की सहायता से लगातार 30 वर्षों तक अत्याचार करता रहा जो कि सिद्ध करता है कि उसके काल में कभी भी अमन और शांति नहीं रही।

जहाँ मुमताज़ का कब्र बनी है उस गुम्बज के भीतरी छत में सुनहरे रंग में सूर्य और नाग के चित्र हैं। हिंदू योद्धा अपने आपको सूर्यवंशी कहते हैं अतः सूर्य का उनके लिये बहुत अधिक महत्व है जबकि मुसलमानों के लिये सूर्य का महत्व केवल एक शब्द से अधिक कुछ भी नहीं है। और नाग का संबंध भगवान शंकर के साथ हमेशा से ही रहा है।

इस्लाम का मुख्‍य काम भारत को लूटना मात्र था, उन्होने तत्कालीन मन्दिरो अपना निशाना बनया, । हिन्दू मंदिर उस समय अपने ऐश्वर्य के चरम पर रहे थे। इसी प्रकार आज का ताजमहल नाम से विख्यात तेजोमहाजय को भी अपना निशाना बनाया। मुस्लिम शासकों ने देश के हिंदू भवनों को मुस्लिम रूप देकर उन्हें बनवाने का श्रेय स्वयं ले लिया इस बात का ताज एक आदर्श उदाहरण है।

ताज महल के बारे में कुछ फैक्ट्स

आगरा का ताजमहल दिखाओ, आगरा का ताजमहल वीडियो, आगरा का लाल किला, उस्ताद अहमद लाहौरी, ताज महल आगरा, ताज महल इतिहास, ताज महल का रहस्य, ताज महल किसने बनवाया था, ताज महल के बारे मे जानकारी, ताज महल क्या है, ताज महल पर निबंध, ताज महल फोटो, ताजमहल एक शिव मंदिर, ताजमहल का इतिहास, ताजमहल का फोटो, ताजमहल का सच, ताजमहल किसने बनवाया, ताजमहल दफ़नाए गए, ताजमहल पर निबंध, तेजो महालय शिव मंदिर, दिल्ली का लाल किला, मुमताज महल का इतिहास, रहस्य फिल्म, सुल्तान शाह जहाँ बेगम ऑफ़ भोपाल, हुमायूँ का मकबरा दफ़नाए गए, हुमायूँ बच्चे,

ताज महल की इस संक्षिप्त कहानी का सारा श्रेय मूल लेखक श्री ओक साहब तथा अन्य प्रत्यक्ष व परोक्ष रूप से लगे सभी इतिहास प्रेमियों को जाता है और उन्हें जिन्होंने इस आर्टिकल को लिखने में अपरोक्ष रूप से मेरी सहयता की| वेबसाइट की notification on कर ले ताकि ऐसी ही महत्वपूर्ण जानकारियाँ आपको मिलती रहे है|

964FansLike
52FollowersFollow
357,000SubscribersSubscribe

POPULAR POST

Panchayat Season 3 Release Date

Panchayat Season 3 Release Date | Trailer | Storyline Cast, OTT Platform | Full...

0
panchayat season 3 is an amazon original series based on panchayat season 1. Panchayat Season one is based on the life of Abhishek sir AKA Abhishek Tripathi (Jitendra Kumar), a computer engineer who works...

Raju Srivastav Biography Hindi | Raju Srivastav की दाऊद इब्राहीम से दुश्मनी | मच्छर...

0
राजू श्रीवास्तव का जन्म 25 दिसम्बर 1963 को कानपूर उत्तर प्रदेश में हुआ था| वो एक मंध्यम परिवार से तालुक रखते थे उनके पिता का नाम रमेश चन्द्र श्रीवास्तव था जो एक कवी व...
Lokesh cinematic universe (LCU), vikram 3, kaithi 2, mayavi

Big 6 Cinematic Universe movies of Lokesh Kanagaraj

0
Lokesh cinematic universe (LCU) एक तमिल भाषी एक्शन थ्रिलर फिल्मों का एक cinematic universe है जिसके निर्माता है लोकेश कनगराज| लोकेश के cinematic universe में अभी तक 2 फिल्मे आ चुकी है| kaithi जो...

Brahmastra Part One – Shiva Full Movie in HD Leaked on Torrent Sites &...

0
Brahmastra Leaked Online: Ranbir Kapoor and Alia Bhatt’s magnum opus has now been leaked online on the day of its theatrical release. Directed by Ayan Mukerji, Brahmastra is one of the most anticipated movies of the...

Brahmastra Movie Free HD Tamilrockers | Download Online Brahmastra Movie | Box Office Collection

0
Brahmastra Movie Download Tamilrockers. Brahmastra Full Movie Download Trends on Google and people have been searching for these trends to stream the movie for free. They are trying for Brahmastra Movie Download Tamilrockers, which...