महेंद्र सिंह धोनी के साथ सुरेश रैना ने लिया सन्यास

0
1840

भारत के अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ी सुरेश रैना ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास की घोषणा कर दी है। उन्होंने एमएस धोनी के क्विट करने के तुरंत बाद अपने फैसले की घोषणा की।

सुरेश रैना ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास की घोषणा कर दी है। शनिवार को अपनी टीम के साथी एमएस धोनी संन्यास लेने का फैसला करने के कुछ ही मिनटों बाद सुरेश रैना ने इंस्टाग्राम पर ये लिखते हुए कहा:-

“It was nothing but lovely playing with you, @mahi7781. With my heart full of pride, I choose to join you in your journey. Thank you, India. Jai Hind.”

इंडियन प्रीमियर लीग के सुरेश रैना के लिए चेन्नई सुपर किंग्स ने इस खबर की पुष्टि की। भारत के 2011 विश्व कप विजेता टीम के एक सदस्य, रैना ने 18 टेस्ट और 226 एकदिवसीय मैचों में भाग लिया, इसके अलावा 78 T20 में भी खेल रहे थे।

Cricbuzz के अनुसार सुरेश रैना ने ये फैसला तब लिया जब भारत के पूर्व कप्तान और दो बार के विश्व कप विजेता, महेंद्र सिंह धोनी ने शनिवार (15 अगस्त) को इंस्टाग्राम पोस्ट के माध्यम से अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास की घोषणा की।

उन्होंने कहा:-

“Thanks a lot for ur love and support throughout. from 1929 hrs consider me as Retired (sic)”,

धोनी ने इससे पहले ऑस्ट्रेलिया दौरे पर मेलबर्न टेस्ट के बाद 2014 में टेस्ट क्रिकेट से संन्यास ले लिया था और जनवरी 2017 में विराट कोहली को वनडे और टी 20 की कप्तानी सौंपी थी।

बीसीसीआई अध्यक्ष सौरव गांगुली ने कहा “यह एक युग का अंत है, देश और विश्व क्रिकेट के लिए वह एक महान प्रेरणा के रूप में रहे। उनके छोटे खेलो के प्रारूप में नेतृत्व के गुण कुछ अलग ही थे । उनके शुरुआती दिनों में एक दिवसीय क्रिकेट में उनकी बल्लेबाजी ने दुनिया को दिखा दिया की वो एक महान बल्लेबाज है। सबका दिन आता है लेकिन ये पल बहोत ही अद्भुत थे। उन्होंने नए विकेटकीपरों के लिए और देश के लिए एक पहचान और कई मानक तय किए हैं। एक उत्कृष्ट करियर; मैं उनके मगल्मय जीवन की कामना करता हूँ|
लगभग 16 वर्षों के उच्चतम स्तर पर, धोनी ने अपने सबसे सफल युग के माध्यम से भारत का नेतृत्व किया और उनके मंत्रिमंडल में 2007 टी 20 विश्व कप, 2011 एकदिवसीय विश्व कप और 2013 चैंपियंस ट्रॉफी है।

धोनी का आखिरी एकदिवसीय मैच भारत के लिए उनका 350 मैच वां था, जिसमें उन्होंने न्यूजीलैंड के खिलाफ 2019 विश्व कप में 72 गेंदों पर 50 रनों की पारी खेली थी जिसका कुछ ज्यादा फायदा हुआ नहीं था। एकदिवसीय मैचों में 50.57 की औसत से 10,773 रन के साथ और 50 ओवर के प्रारूप में 10000 रन बनाने वाले वो पांचवें भारतीय हैं। महेंद्र सिंह धोनी ने 229 एकदिवसीय छक्के भी लगाये हैं – जो एक भारतीय बल्लेबाज के लिए सबसे अधिक सख्या है।

महेंद्र सिंह धोनी ने 2007 में राहुल द्रविड़ से भारत की एकदिवसीय कप्तान के रूप में पदभार संभाला और 200 मैच में से 55 प्रतिशत जीत उन्होंने कप्तान रहते हुए मिली (110 जीत, 74 हार, 5 बंधे, 11 एनआर) ।

T20Is में, धोनी ने 100 मैच में से दो गेम खेले, जिसमें 1617 रन 126.13 के स्ट्राइक रेट से बने। इससे भी महत्वपूर्ण बात यह है कि उन्होंने 2007 में वर्ल्ड टी 20 के उद्घाटन में भारत का नाम रोशन किया। इस प्रारूप में 58.33 जीत प्रतिशत के साथ कप्तान के रूप में 72 मैचों में 42 जीत दर्ज की।

सीमित ओवरों के प्रारूप में भारत के सबसे सफल कप्तान होने के अलावा, धोनी ने विकेटकीपिंग के कौशल को भी फिर से परिभाषित किया और पिछले कुछ वर्षों में दुनिया के बेहतरीन स्टंपर्स में से एक होने का गौरव हासिल किया। अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में तीनों प्रारूपों (834 कैच, 195 स्टंपिंग) में 829 के साथ, धोनी विकेटकीपरों की सूची में तीसरे स्थान पर हैं, जिन्होंने सबसे ज्यादा अधिक बार खिलाडी आउट किये, मार्क बाउचर (998) और एडम गिलक्रिस्ट (905) से पीछे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here