जवाहर लाल नेहरु की TOP 10 गलतियों जिन्हें BHARAT (INDIA) आज भी भुगत रहा है| Nehru Khandan Ka Itihas

0
1417

नेपाल को भारत में विलय से इनकार

सन 1950-51 में नेपाल के राजा त्रिभुवन ने नेपाल को भारत में विलय करने की प्रस्ताव दिया था। चाचा ने इन्कार कर दिया था।

नतीजा आज चीन हमारे ही खिलाफ नेपाल का इस्तेमाल कर रहा है|

बलूचिस्तान को भारत में शामिल ना करना

1948 में बलुचिस्तान के नवाब खान ने चाचा को पत्र लिखकर बाकायदा अनुरोध किया था कि बलुचिस्तान को भारत के साथ शामिल करने की कृपा करें। हम भारत के साथ रहना चाहते हैं। चचा ने इन्कार कर दिया।

नतीजा पाकिस्तान ने बंदुक के बल पर बलुचिस्तान को कब्जा कर लिया। सोचिए कितनी बड़ी कीमत चुकानी पड़ी हमें।

ग्वादर पोर्ट को न लेना

सन् 1947 में ओमान देश ने ग्वादर पोर्ट को भारत देश को लेने के लिए ऑफर दिया था। चाचा नेहरू ने यह ऑफर को ठुकरा दिया था। नतीजा पाकिस्तान ने ले लिया, फिर चीन को दे दिया।

कोको द्वीप बर्मा को देना

सन् 1950 में चाचा नेहरू ने कोको आइलैंड को बर्मा को दान में दे दिया। जैसे कि उसके पिता की सम्पत्ति है। बर्मा ने चीन को बेच दिया। नतीजा आज चीन हमारे नौसेना की जासूसी करता है।

1952 में चाचा ने अपने स्वार्थ में 22327 वर्ग किलोमीटर का एरिया बर्मा को दान कर दिया था। इस स्थान का नाम है कावाओ valley. ये कश्मीर के जैसा ही सुंदर और रमणीक स्थल था। बाद में वर्मा ने चीन को बेच दिया। नतीजा आज चीन वहां से भी हमारे ऊपर जासूसी करता है।

चीन के साथ युद्ध में वायुसेना का साथ न लेना

सन् 1962 के चीन के साथ युद्ध में भारत के वायुसेना के प्लान के मुताबिक युद्ध लड़ने के लिए मना कर दिया और आत्मसमर्पण कर दिया और 14000 वर्ग किलोमीटर का एरिया चीन को भेंट स्वरूप सौंप दिया| इस युद्ध में 3000 से अधिक भारत के जवान शहीद हुए थे।

इसी एरिया को अक्साई चिन कहते हैं। सोचिए इस नेहरू ने हमारे देश को कितना क्षतिग्रस्त किया है।

भारत को नुक्लियर पॉवर न बनाना

देश की आजादी के तुरंत बाद में अमेरिका के राष्ट्रपति ने चाचा नेहरू को कहा था कि आप न्युक्लियर पावर का देश बनने के लिए प्लांट लगाए पर चाचा ने इन्कार कर दिया।

UN सुरक्षा परिषद् का स्थायी पद ठुकराना

भारत को UN सुरक्षा परिषद का स्थायी सदस्य बनने के अवसर मिले लेकिन चचा ने इन्कार कर दिया और चीन को सदस्य बनाया। कितनी बड़ी क्षति हुई है अंदाजा लगाइए।

इसने केवल भारत को क्षतिग्रस्त ही किया है। ये हमारा प्रधानमंत्री था या पाकिस्तान का एक बार सोचिये और यह भी सोचिये की सोशल मीडिया पर बैठे जितने भी देश की चिंता में मोदी जी को भला बुरा कहता है वे कभी भी इस पर चर्चा नही करेगा…. कारण उसे देश की नही 10 जनपथ को दुबारा सत्ता पर बिठाने का चिंता रहता है ना कि देश का कांग्रेस वामपंथी आतंकवादी और आतंकवादियों का संगठन

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here